साहित्य का श्रेय और प्रेय : प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sahity Ka Shrey Aur Prey : by Prabhakar Machave Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

साहित्य का श्रेय और प्रेय : प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Sahity Ka Shrey Aur Prey : by Prabhakar Machave Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name साहित्य का श्रेय और प्रेय / Sahity Ka Shrey Aur Prey
Author
Category,
Language
Pages 462
Quality Good
Size 13.3 MB
Download Status Available

साहित्य का श्रेय और प्रेय का संछिप्त विवरण : हम उसी साहित्य को ज्यादह उत्कट मानते हैं जो मतप्रचार से भाराकान्त हो । जैसे अष्टन सिक्‍्लेंयर या ऐसे ही छलछलाती शैली और भावों के अन्य ग्रंथकार | भारतीय आदर्श ऐसी भाव-विषमता के आवेश से पैदा हुए या नसों में ज्वार-उभार पैदा करने वाले साहित्य से सर्वथा भिन्‍न रहा है………

Sahity Ka Shrey Aur Prey PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ham usi sahity ko jyadah utkat manate hain jo Mataprachar se bharakant ho. Jaise aptan sik‍lenyar ya aise hi chhalachhalati shaily aur bhavon ke any Granthakar. Bharatiya Aadarsh aisi bhav-vishamata ke Aavesh se paida huye ya nason mein jvaar-ubhar paida karane vale sahity se sarvatha bhin‍na raha hai………..
Short Description of Sahity Ka Shrey Aur Prey PDF Book : We consider the same literature to be more ardent, which is heavy with propaganda. Like Upton Claire or other writers of similar deceitful style and expressions. The Indian ideal has been completely different from the literature born out of the passion of such asymmetry or creating a flurry of nerves……….
“कल्पना के उपरांत उद्यम अवश्य किया जाना चाहिए। सीढ़ियों को देखते रहना ही पर्याप्त नहीं है – सीढ़ियों पर चढ़ना आवश्यक है।” – वैन्स हैवनेर
“The vision must be followed by the venture. It is not enough to stare up the steps – we must step up the stairs.” – Vance Havner

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment