साहित्यिक जीवन के अनुभव और संस्मरण : किशोरीदास वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sahityik Jeevan Ke Anubhav Aur Sansmaran : by Kishori Das Vajpayee Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

साहित्यिक जीवन के अनुभव और संस्मरण : किशोरीदास वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sahityik Jeevan Ke Anubhav Aur Sansmaran : by Kishori Das Vajpayee Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name साहित्यिक जीवन के अनुभव और संस्मरण / Sahityik Jeevan Ke Anubhav Aur Sansmaran
Author
Category,
Language
Pages 152
Quality Good
Size 950 KB
Download Status Available

साहित्यिक जीवन के अनुभव और संस्मरण का संछिप्त विवरण : कुछ स्थायी काम करने का विचार किया। आगे सम्मेलन”! तथा कांग्रेस” में लगा रहने पर भी कुछ स्थायी साहित्य दे सका, जिसकी प्रशंसा महाकवि ‘हरिऔध’ तक ने की। उसके आगे तो एक दिशा में ऐसा काम हुआ कि सभी लोग मान गए। परन्तु ! परन्तु यह सब होने पर भी मुझे सफलता” न मिली ! एक बार मन में आया कि पान या चाय की छोटी सी दुकान खोल ली जाए……..

Sahityik Jeevan Ke Anubhav Aur Sansmaran PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kuchh Sthayi kam karane ka vichar kiya. Aage sammelan”! Tatha Congres” mein laga rahane par bhi kuchh sthayi sahity de saka, jisaki prashansa mahakavi hariaudh tak ne ki. Usake aage to ek disha mein aisa kam huya ki sabhi log man gayi. Parantu ! Parantu yah sab hone par bhi mujhe saphalata” na mili ! Ek bar man mein aaya ki pan ya chay ki chhoti si dukan khol li jaye,…..
Short Description of Sahityik Jeevan Ke Anubhav Aur Sansmaran PDF Book : Thought to do some permanent work. Conference ahead ”! And even after being in the Congress ”, he could give some permanent literature, which was praised even by the great poet ‘Hariyodh’. Before him, such a work was done in one direction that everyone agreed. But! But even after all this, I did not get success ”! Once it came to mind that a small tea or tea shop should be opened ……
“वह व्यक्ति बुद्धिमान है जो उन वस्तुओं के लिए दुःख नहीं मनाता जो उसके पास नहीं हैं, लेकिन उनके लिए आनन्द मनाता है जो उसके पास हैं।” ‐ एपिक्टेट्स
“He is a wise man who does not grieve for the things which he has not, but rejoices for those which he has.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment