समीक्षा के सिद्धान्त : डॉ. सत्येन्द्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Samiksha Ke Siddhant : by Dr. Satyendra Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameसमीक्षा के सिद्धान्त / Samiksha Ke Siddhant
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 218
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

समीक्षा के सिद्धान्त का संछिप्त विवरण : हिंदी में एकांकियों की परम्परा हमें संस्कृत तथा बंगला से होकर भारतेन्दु युग में और तब से अब तक मिलतीहै | इस इतिहास में हमें मिलता है कि आधुनिक काल में इन एकांकियों में जिस काल का उद्घाटन हुआ है; उसमें पाश्च्यात्य एकांकियों का बहुत बड़ा हाथ है | आधुनिक काल से पूर्व एकांकियों में साहित्य का अंक अलग अंग होने का भाव नहीं था …….

Samiksha Ke Siddhant PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hindi mein ekankiyon ki parampara hamen sanskrt tatha bangala se hokar bharatendu yug mein aur tab se ab tak milati hai. Is itihas mein hamen milata hai ki aadhunik kal mein in ekankiyon mein jis kal ka udghaatan hua hai, usamen paashchyaaty ekaankiyon ka bahut bada haath hai | aadhunik kaal se poorv ekaankiyon mein saahity ka ank alag ang hone ka bhaav nahin tha…………
Short Description of Samiksha Ke Siddhant PDF Book : In Hindi, the tradition of Ekals has been received through Sanskrit and Bangla in the Bharatendu era and henceforth. In this history we find that in the modern times, the time of the inauguration of these aunals has a huge hand of Western singers. Before the modern times, the number of literature in the uni…………..
“मेरे विचार से आप प्रतिदिन दो में से कोई एक काम करते हैं: स्वास्थ्य वर्धन करना या अपने शरीर में रोग पैदा करना।” ‐ एडेल्लेय
“As I see it, every day you do one of two things: build health or produce disease in yourself.” ‐ Adelle

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment