समर्पण और साधना : भवनिप्रसाद मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Samrpan Aur Sadhna : by Bhawaniprasad Mishr Hindi PDF Book – Granth

समर्पण और साधना : भवनिप्रसाद मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Samrpan Aur Sadhna : by Bhavaniprasad Mishr Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समर्पण और साधना / Samrpan Aur Sadhna
Author
Category, , ,
Language
Pages 462
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

समर्पण और साधना का संछिप्त विवरण : पुराने लोग कर्तव्य की बात करते थे | आजकल का युग भजिनिय दिनों से अधिकार को ही विशेष समझने लगा है और इसी युग की खूबी भी है | कर्तव्य तो बाहर की प्रेरणा है तब किसी के आदेश से हम उसे समझने लगते हैं और अमल में लेन की कोशिश करते है जबकि अधिकार तो आंतरिक प्रेरणा से खड़ा होता है और भगवान को आशीर्वाद देना ही पड़ता है…….

Samrpan Aur Sadhna PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Purane log kartavy ki bat karte the. Ajkal ka yug bhajiniy dinon se adhikar ko hi vishesh samajhne laga hai aur isi yug ki khoobi bhi hai. Kartavy to bahar ki prerna hai tab kisi ke adesh se ham use samajhne lagte hai aur amal mein len ki koshish karte hai jabki adhikar to antarik prerna se khada hota hai aur bhagvan ko ashirvad dena hi padta hai……….
Short Description of Samrpan Aur Sadhna PDF Book : Old people used to talk about duty, the era has begun to understand rights from the days of Bhajan and it is also the era of this era. Duty is the outside motivation, then by the order of somebody, we begin to understand it and try to lane in execution, whereas the right is standing with internal motivation and giving blessings to God…….
“सफल व्यक्ति होने का प्रयास न करें, अपितु गरिमामय व्यक्ति बनने का प्रयास करें।” ‐ अल्बर्ट आईंसटीन
“Try not to become a man of success, but rather try to become a man of value.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment