संघवाद और संघात्मक शासन : डॉ० बी. एम. शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Sanghwad Aur Sanghatmak Shasan : by Dr. B. M. Sharma Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameसंघवाद और संघात्मक शासन / Sanghwad Aur Sanghatmak Shasan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 463
Quality Good
Size 58 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इतिहास इस बात का प्रमाण है कि मानव-जाति, ,अपनी वर्तमान स्थिति पर पहुँचने से पहले, अनेक प्रकार की सफलताओं और विफलताओं के क्रम से गुज़र चुकी है। दूसरे शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि मानव-व्यवहार और प्रगति में अनेक क्रियाएँ और उपनक्रियाएँ हो चुकी हैं। मानव-जाति निरंतर प्रगतिशील रही है, प्रगतिशील…

Pustak Ka Vivaran : Itihas is bat ka Praman hai ki Manav-jati, ,Apni vartaman sthiti par pahunchane se pahale, anek prakar ki Saphalataon aur viphalataon ke kram se guzar chuki hai. Doosare shabdon mein ham yah kah sakate hain ki Manav-vyavahar aur pragati mein anek kriyayen aur upanakriyayen ho chuki hain. Manav-jati Nirantar pragatisheel rahi hai, pragatisheel……….

Description about eBook : History is proof that mankind, before reaching its present state, has gone through a series of successes and failures. In other words, we can say that there have been many actions and sub-actions in human behavior and progre

“हर बात में धीरज रखें, विशेषकर अपने आप से। अपनी कमियों को लेकर धैर्य न खोएं अपितु तुरन्त उनका समाधान करना शुरू करें – हर दिन कर्म की नई शुरुआत है।” – सेन्ट फ्रांसिस दे सेल्स
“Have patience with all things, but chiefly have patience with yourself. Do not lose courage in considering your own imperfections but instantly set about remedying them – every day begins the task anew.” – Saint Francis de Sales

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment