सन्यासी और सुंदरी : यादवेन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sanyasi Aur Sundari : by Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसन्यासी और सुंदरी / Sanyasi Aur Sundari
Author
Category, ,
Language
Pages 152
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सत्य को सत्य मानना ही पड़ेगा, आज नहीं कल, कल नहीं तो कुछ काल पश्चात्‌। ” राहुल ने शय्या पर शयित रूपगर्विता नारी वासदत्त से गंभीर स्वर में कहा। वासदत्त ! एक क्षण का दम्भ प्राणी को विवेकशून्य बनाता हैं। गत और आगत से अनभिज्ञ बनाता है; पर सत्य सत्य होता है। ” “मैं नहीं स्वीकारती। “यौवन में मदान्ध वैभव सागर की उत्ताल. है……..

Pustak Ka Vivaran : Saty ko Saty Manana hee padega, Aaj nahin kal, kal nahin to kuchh kal pashchat. Rahul ne shayya par shayit Roopagarvita Nari Vasadatt se Gambheer svar mein kaha. Vasadatt ! Ek kshan ka dambh prani ko vivekashoony banata hain. Gat aur Aagat se anabhigy banata hai; par saty saty hota hai. Main Nahin sveekarati. Yauvan mein madandh vaibhav sagar kee uttal……

Description about eBook : Truth has to be accepted as truth, not today or tomorrow, if not tomorrow, after some time. “Rahul said in a serious voice to the narrated feminist Nari Vasadatta on the bed.” Believed! A moment’s start makes the creature indestructible. Makes one ignorant of the past and the input; But truth is truth. “” I don’t accept. “Excavation of the Madhav Vaibhav Sagar in youth…….

“हर बात में धीरज रखें, विशेषकर अपने आप से। अपनी कमियों को लेकर धैर्य न खोएं अपितु तुरन्त उनका समाधान करना शुरू करें – हर दिन कर्म की नई शुरुआत है।” ‐ सेन्ट फ्रांसिस दे सेल्स
“Have patience with all things, but chiefly have patience with yourself. Do not lose courage in considering your own imperfections but instantly set about remedying them – every day begins the task anew.” ‐ Saint Francis de Sales

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment