सत्य ही ईश्वर है : गांधीजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Satya Hi Ishwar Hai : by Gandhi Ji Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

सत्य ही ईश्वर है : गांधीजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Satya Hi Ishvar Hai : by Gandhi Ji Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सत्य ही ईश्वर है / Satya Hi Ishwar Hai
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 134
Quality Good
Size 1976 KB

पुस्तक का विवरण : गांधीजी के जीवन और उनकी साधना के विषय में विचार करने से मालूम होता है कि यह शक्ति उन्हें सत्य की आराधना और ईश्वर-विषयक दृण श्रद्धा से प्राप्त हुई थी। उनके साथना-काल में सत्य तथा ईश्वर-तत्व सम्बश्धी उनकी भावना और विचारों का धीरे-धीरे विकास होता गया। पहले वे मानते थे और कहते थे कि ईश्वर सत्य है। बाद में वे कहने लगे की ‘सत्य ही ईश्वर है……..

Pustak Ka Vivaran : Gandhi ji ke jeevan aur unaki sadhana ke vishay mein vichar karane se maloom hota hai ki yah shakti unhen saty kee Aaradhana aur Ishvar-vishayak drn shraddha se prapt huyi thee. Unake sadhana-kaal mein saty tatha eeshvar-tatv sambandhee unaki bhavana aur vicharon ka dheere-dheere vikas hota gaya. Pahale ve manate the aur kahate the ki eeshvar saty hai. Bad mein ve kahane lage kee saty hee Eshvar hai………….

Description about eBook : Reflecting about Gandhiji’s life and his practice, it is known that this power was derived from his worship of truth and devotional vision. His spirit and thoughts related to truth and God-element gradually developed during his practice. Earlier he believed and said that God is true. Later he started saying that ‘Truth is God’………….

“शिक्षक द्वार खोलते हैं; लेकिन प्रवेश आपको स्वयं ही करना होता है।” ‐ चीनी कहावत
“Teachers open the door; you enter by yourself.” ‐ Chinese proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment