शंकर और स्पिनोजा के दर्शन में सत का स्वरूप : राजेश कुमार मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Shankar Aur Spinoja Ke Darshan Mein Sat Ka Svaroop : by Rajesh Kumar Mishra Hindi PDF Book – Social (Samajik)

शंकर और स्पिनोजा के दर्शन में सत का स्वरूप : राजेश कुमार मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Shankar Aur Spinoja Ke Darshan Mein Sat Ka Svaroop : by Rajesh Kumar Mishra Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name शंकर और स्पिनोजा के दर्शन में सत का स्वरूप / Shankar Aur Spinoja Ke Darshan Mein Sat Ka Svaroop
Author
Category,
Language
Pages 255
Quality Good
Size 15.3 MB
Download Status Available

शंकर और स्पिनोजा के दर्शन में सत का स्वरूप का संछिप्त विवरण : शंकर एव स्पिनोजा के दर्शन मे क्रमश ब्रह्म एवं द्रव्य को ही परम सत्‌ माना गया है। शकर के अनुसार आत्मा ब्रह्म के वास्तविक स्वरूप को अज्ञानता वश नही जान पाती एव अपने को अनित्य, परिच्छिन्न जीव के रूप मे मानने लगती है। आत्मा का अज्ञान से युक्त होना ही शंकर के अनुसार बन्धन है। आत्मा के बन्धन युक्त होने पर माया……….

Shankar Aur Spinoja Ke Darshan Mein Sat Ka Svaroop PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shankar ev Spinoja ke darshan me kramash brahm evan dravy ko hei Param sat‌ mana gaya hai. Shankar ke Anusar Aatma brahm ke vastavik svaroop ko agyanata vash nahi jan pati ev Apane ko Anity, parichchhinn jeev ke roop me manane lagati hai. Aatma ka Agyan se yukt hona hi Shankar ke Anusar bandhan hai. Aatma ke bandhan yukt hone par maya………
Short Description of Shankar Aur Spinoja Ke Darshan Mein Sat Ka Svaroop  PDF Book : In the philosophy of Shankar and Spinoza, Brahma and Dravya respectively are considered to be the ultimate truth. According to Shakar, the soul is unable to know the true nature of Brahman out of ignorance and starts considering itself as an impermanent, impermanent being. According to Shankara, the soul is bound by ignorance. Maya when the soul is bonded………
“सफलता की गिनती यह नहीं कि आप खुद कितने ऊंचे तक उठे हैं बल्कि इसमें कि आप अपने साथ कितने लोगों को लाएं हैं।” – विल रॉस
“Success is not counted by how high you have climbed but by how many people you have brought with you.” – Wil Rose

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment