श्राद्ध विज्ञान भाग – 2 : पं. मोतीलाल शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Shraddh Vigyan Vol – 2 : by Pt. Motilal Sharma Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameश्राद्ध विज्ञान भाग - 2 / Shraddh Vigyan Vol - 2
Author
Category, , , ,
Language
Pages 174
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भाष्यकार का अभिप्राय यही है की जो व्यक्ति अपने चर्मचक्षु से लीकिक विषय का साक्षातकर कर, जैसा उसने स्वय॑ देखा है , ठीक वैसा ही कहने की इच्छा रखता हुआ वह “आप्त” कहलाता है। चाहे चर्म॑चक्षु से लोकिक विषय पर पहुंचा हो , अथवा आर्श्रक्षुसे अलोकिक विषय पर पहुंचा हो। उभयथा विषय का साक्षात्कार ही आप्ती………

Pustak Ka Vivaran : Bhashyakar ka abhipray yahi hai kee jo vyakti apane charmanchakshu se laukik vishay ka sakshatakar kar, jaisa usane svayan dekha hai , theek vaisa hee kahane kee ichchha rakhata huya vah aapt kahalata hai. Chahe charmanchakshu se laukik vishay par pahuncha ho , athava aarshchakshu se alaukik vishay par pahuncha ho. Ubhayatha vishay ka sakshatkaar hee Aapti hai…………

Description about eBook : The commentator refers to a person who, by interviewing his cosmic subject with a cosmic subject, as he himself has seen, wishes to say exactly what he calls an “Apt”. Whether reached the cosmic subject from Charmanchakshu, or reached the supernatural subject from Archakshu. Objection is the interview of the subject………..

“सच्चे मित्र मुश्किल से मिलते हैं, कठिनता से छूटते हैं और भुलाए नहीं भूलते हैं।” ‐ जी. रेण्डॉल्फ
“Truly great friends are hard to find, difficult to leave and impossible to forget.” ‐ G. Randolf

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment