श्रीमत स्वामी निर्वेदानंद जी : एक पूर्ण सन्यासी हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Shreemat Swami Nirvedanand Ji Hindi Book Free Download

Book Nameश्रीमत स्वामी निर्वेदानंद जी : एक पूर्ण सन्यासी / Shreemat Swami Nirvedanand Ji : Ek Purn Sanyasi
Author
Category, ,
Language
Pages 70
Quality Good
Size 5.7 MB
Download Status Available

श्रीमत स्वामी निर्वेदानंद जी : एक पूर्ण सन्यासी का संछिप्त विवरण : एक बार उनके एक शिष्य को विदेश यात्रा पर जाना था और उसने प्रस्थान के पूर्व पत्र लिखकर स्वामीजी से आशीर्वाद देने की विनती की। स्वामीजी ने अपनी शुभकामनाओं के अतिरिक्त साथ में रखकर ले जाने के लिए एक छोटी सी फोटो भेजी जो उनकी स्वयं की नहीं वरन उनके गुरु महाराज की थी। स्वामीजी कम बोलने वाले व्यक्ति थे। प्राय: वह केवल एक छोटी………

Shreemat Swami Nirvedanand Ji : Ek Purn Sanyasi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek bar unke ek shishy ko videsh yatra par jana tha aur usne prasthan ke purv patra likhakar Svami ji se aasheervad dene ki vinati ki. Svami ji ne apni shubhakamanaon ke atirikt sath mein rakhakar le jane ke liye ek chhoti si photo bheji jo unki svayan ki nahin varan unke guru maharaj ki thi. Svami ji kam bolane vale vyakti the. Pray: vah keval ek chhoti…….
Short Description of Shreemat Swami Nirvedanand Ji : Ek Purn Sanyasi PDF Book : Once one of his disciples was to go on a foreign trip and before departure he write a letter requesting Swamiji to bless him. In addition to his best wishes, Swamiji sent a small photo to be taken with him, which was not of his own but of his Guru Maharaja. Swamiji was a low-spoken person. Often she is only a short……
“जब तक रुग्णता का सामना नहीं करना पड़ता; तब तक स्वास्थ्य का महत्त्व समझ में नहीं आता है।” -डा. थॉमस फुल्लर
“Health is not valued till sickness comes.” -Dr. Thomas Fuller

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment