श्री रामकृष्ण एवं विवेकानन्द की वैचारिक पृष्ठभूमि में अद्वैत वेदान्त की सार्थकता : शैलेन्द्र नाथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Shri Ramkrishna Evam Vivekanand Ki Vaicharik Prashthbhumi Mein Adwait Vedant Ki Sarthakta : by Shailendra Nath Mishra Hindi PDF Book – Social (Samajik)

श्री रामकृष्ण एवं विवेकानन्द की वैचारिक पृष्ठभूमि में अद्वैत वेदान्त की सार्थकता : शैलेन्द्र नाथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Shri Ramkrishna Evam Vivekanand Ki Vaicharik Prashthbhumi Mein Adwait Vedant Ki Sarthakta : by Shailendra Nath Mishra Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्री रामकृष्ण एवं विवेकानन्द की वैचारिक पृष्ठभूमि में अद्वैत वेदान्त की सार्थकता / Shri Ramkrishna Evam Vivekanand Ki Vaicharik Prashthbhumi Mein Adwait Vedant Ki Sarthakta
Author
Category, ,
Language
Pages 283
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

श्री रामकृष्ण एवं विवेकानन्द की वैचारिक पृष्ठभूमि में अद्वैत वेदान्त की सार्थकता का संछिप्त विवरण : स्वामी विवेकानन्द के चिन्तन और विचार पर 3द्वैत वेदान्त के अमिट प्रभाव को देखते हुए ही शोधकर्ता ने उनकी समग्र वैचारिक पृष्ठभूमि में अद्वैत वेदान्त की वास्तविक सार्थकता को खोजने का प्रयास किया है। चूँकि विवेकानन्द की चिन्तनधारा को हम उनके गुरु श्री रामकृष्ण देव की चिन्तनधारा से सर्वथा अलग करके नहीं समझ सकते, इसीलिए शोधकर्ता द्वारा स्वामी विवेकानन्द के साथ ही उनके गुरु श्री………

Shri Ramkrishna Evam Vivekanand Ki Vaicharik Prashthbhumi Mein Adwait Vedant Ki Sarthakta PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Svami Vivekanand ke chintan aur vichar par advait vedant ke amit prabhav ko dekhate huye hi shodhakarta ne unki samagr vaicharik prshthabhumi mein advait vedant ki vastavik sarthakata ko khojane ka prayas kiya hai. Chunki vivekanand ki chintanadhara ko ham unake guru Shri Ramakrishna dev ki chintanadhara se sarvatha alag karake nahin samajh sakate, isiliye shodhakarta dvara Svami Vivekanand ke sath hi unke guru shri………..
Short Description of Shri Ramkrishna Evam Vivekanand Ki Vaicharik Prashthbhumi Mein Adwait Vedant Ki Sarthakta PDF Book : Seeing the indelible influence of Advaita Vedanta on Swami Vivekananda’s thought and thought, the researcher has tried to find the real significance of Advaita Vedanta in his overall ideological background. Since we cannot understand Vivekananda’s line of thought completely apart from the thought stream of his guru Sri Ramakrishna Dev, that is why the researcher along with Swami Vivekananda, his guru Sri………….
“जीवन की दीर्घता के बनिस्पत जीवन की गुणवत्ता अधिक महत्त्व रखती है।” – मार्टिन लूथर किंग जूनियर
“The quality, not the longevity, of one’s life is what is important.” – Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment