सिंदूर की तलाश : बलवन्त सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sindoor Ki Talash : by Balwant Singh Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसिंदूर की तलाश / Sindoor Ki Talash
Author
Category, , , ,
Language
Pages 174
Quality Good
Size 4 MB

पुस्तक का विवरण : रक्षाबन्धन का त्यौहार था। सुबह का समय था। पुष्पा रिक्शा में बैठी चली जा रही थी ? एक अपरिचित और अज्ञात युवक के कहने में आकर उसे राखी बांधने जा रही थी। इस बात का परिणाम क्या होगा ? वह उसके कहने में आई ही क्यों ? –  प्रश्नों का उसके पास कोई उत्तर नहीं था। एकाएक रिक्शावाला बोला………

Pustak Ka Vivaran : Rakshabandhan ka tyohar tha. Subah ka samay tha. Pushpa riksha mein baithi chalee ja rahee thi ? Ek aparichit aur agyat yuvak ke kahane mein aakar use rakhi bandhane ja rahi thi. Is bat ka parinam kya hoga ? Vah uske kahane mein aayi hi kyon ? -Prashnon ka uske pas koi uttar nahin tha. Ekaek Rikshavala bola………

Description about eBook : It was the festival of Rakshabandhan. It was morning. Pushpa was leaving sitting in the rickshaw? At the behest of an unknown and unknown youth, she was going to tie Rakhi to her. What will be the result of this? Why did she come to tell him? He had no answer to the questions. Suddenly the rickshawman said………

“जो व्यक्ति पढ़ता नहीं, वह उस व्यक्ति से बेहतर नहीं जो पढ़ ही नहीं सकता।” ‐ मार्क ट्वेन
“The person who won’t read is no better than the person who can’t read.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment