हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

सुनहरा हंस / Sunhara Hans

सुनहरा हंस : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चो की पुस्तक | Sunhara Hans : Hindi PDF Book - Children's Book (Baccho Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुनहरा हंस / Sunhara Hans
Author
Category, ,
Language
Pages 26
Quality Good
Size 2.13 MB
Download Status Available

सुनहरा हंस का संछिप्त विवरण : एक दिन सबसे बड़े बेटे को जलाऊ लकड़ी काटने के लिए जंगल में जाना पड़ा | क्योंकि उसमे काफी समय लगता, इसलिए माँ ने उसे खाने में एक केक और एक वाइन की बोतल दी | एक बार की बात है, एक आदमी अपनी और तीन बेटों के साथ रहना था | वे सभी जंगल के किनारे एक झोपड़ी में रहते थे | सबसे छोटे बेटे को लोग सिंपलटन कहते है………..

Sunhara Hans PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek din sabse bade bete ko jalu lakdi katne ke lie jangal mein jana pada. Kyonki usme kaphi samay lagta, islie maan ne use khane mein ek ke aur ek vain ki botal di. Ek baar ki baat hai, ek aadmi apni aur teen beton ke sath rahna tha. Ve sabhi jangal ke kinare ek jhopdi mein rahte the. Sabse chhote bete ko log simpalatan kahte hai…………
Short Description of Sunhara Hans PDF Book : One day the eldest son had to go to the forest to burn firewood. Because it took a lot of time, so mother gave him a cake and a bottle of wine. Once upon a time, a man had to live with his own and three sons. They all lived in a cottage on the edge of the forest. The youngest son is called the Simplon……………
“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment