सुशीला उपन्यास : श्री पं० गोपालदास जी बरैया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sushila Upanyas : by Shri Pt. Gopal Das Ji Baraiya Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

सुशीला उपन्यास : श्री पं० गोपालदास जी बरैया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Sushila Upanyas : by Shri Pt. Gopal Das Ji Baraiya Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुशीला उपन्यास / Sushila Upanyas
Author
Category, , , ,
Language
Pages 262
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : तथापि इसकी मांग बनी हुई है। कथा के माध्यम से जैन धर्म और जैन दर्शन के गूढ़ सिद्धान्तों को पण्डित जी ने रोचक शैली और सरल भाषा में प्रस्तुत किया है । उपन्यास होने के कारण “सुशीला” को पाठकों की कभी कमी नहीं रहेगी, आबालवृद्ध स्त्री पुरुष, पुरानी पीढ़ी, नयी पीढ़ी सबको यह रुचिकर होगा और एक बार किसी के हाथ में आने…….

Pustak Ka Vivaran : Tathapi isaki Mang bani huyi hai. Katha ke Madhyam se jain dharm aur jain darshan ke Goodh Siddhanton ko Pandit ji ne rochak shaili aur saral bhasha mein prastut kiya hai . Upanyas hone ke karan “Susheela” ko Pathakon ki kabhi kami nahin rahegi, Aabalavrddh stri purush, purani Peedhi, nayi Peedhi sabako yah ruchikar hoga aur ek bar kisi ke hath mein aane………

Description about eBook : However, its demand remains. Through the story, Panditji has presented the esoteric principles of Jainism and Jain philosophy in an interesting style and simple language. Due to the novel, “Susheela” will never have a shortage of readers, it will be interesting to everyone, the old generation, the old generation, the new generation, and once someone comes into the hands of ………

“आशा वह शक्ति है जो उन परिस्थितियों में भी हमें प्रसन्न बनाए रखती है जिनके बारे में हम जानते हैं कि वे खराब हैं।” जी.के.चेस्टर्टन
“Hope is the power of being cheerful in circumstances which we know to be desperate.” G. K. Chesterton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment