स्वर्ग और पृथ्वी : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Swarg Aur Prathvi : by Dharamveer Bharti Hindi PDF Book – Story (Kahani)

स्वर्ग और पृथ्वी : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Swarg Aur Prathvi : by Dharmaveer Bharati Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name स्वर्ग और पृथ्वी / Swarg Aur Prathvi
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 204
Quality Good
Size 16 MB

पुस्तक का विवरण : “गाओ कबि !” अनुरोध भरे स्वर में राजा बोला- “गाओ, तुम्हारा पहला ही स्वर जैसे हर लेता है जीवन की सीमाएँ, पहुंचा देता है चांदनी के लोक में, जहाँ कल्पना फूलों से श्रंगार कर अतिथियों का स्वागत करती है | मैं भूल जाना चाहता हूँ यह संघर्ष, क्षण भर को मुझे खो जाने दो मधु के उफान में, अधरों की कोमलता में ………

Pustak Ka Vivaran : Gao kavi ! Anurodh bhare svar mein Raja bola- Gao, Tumhara pahala hi svar jaisi har leta hai jeevan ki seemayen, pahuncha deta hai chandani ke lok mein, jahan kalpana phoolon se shrangar kar atithiyon ka svagat karati hai. Main bhool jana chahata hoon yah sangharsh, kshan bhar ko mujhe kho jane do madhu ke uphan mein, Adharon ki komalata mein………….

Description about eBook : “Sing poet!” In the tone of the voice, the King said, “Sing, your first voice takes every kind of life, the boundaries of life, in the people of the moonlight, where imagination welcomes guests by floral decoration. I want to forget this struggle, let me lose momentarily in the heart of the honey, in the softness of the feet…………..

“या आप अपने दिन को चलाते हैं, या दिन आपको चलाता है।” जिम रोह्न
“Either you run the day, or the day runs you.” Jim Rohn

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment