तीन नन्हे खरगोश : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Teen Nanhe Khargosh : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameतीन नन्हे खरगोश / Teen Nanhe Khargosh
Author
Category, , , ,
Language
Pages 14
Quality Good
Size 927 KB
Download Status Available

तीन नन्हे खरगोश का संछिप्त विवरण : एक समय की बात है कि कहीं किसी जगह तीन नन्हे खरगोश रहते थे। तीनों अपने माता पिता के साथ जमीन के अंदर एक आरामदायक बिल में रहते थे। एक दिन उनके पिता ने उन्हें बुलाया। “अब तुम बड़े हो गए हो “उसने कहा। “समय आ गया है कि घर से जाकर तुम बाहर का संसार देखो। लेकिन सबसे पहले अपने लिए……..

Teen Nanhe Khargosh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Samay kee bat hai ki kaheen kisi jagah teen nanhe kharagosh rahate the. Teenon apane mata pita ke sath jameen ke andar ek Aaramadayak bil mein rahate the. Ek Din unake pita ne unhen bulaya. Ab tum bade ho gaye ho ,usane kaha. Samay aa gaya hai ki ghar se jakar tum bahar ka sansar dekho. Lekin sabase pahale apane liye……….
Short Description of Teen Nanhe Khargosh PDF Book : Once upon a time, three small rabbits lived somewhere. The trio lived with their parents inside the ground in a comfortable bill. One day his father called him. “Now you have grown up,” he said. “The time has come for you to go home and see the outside world.” But first of all for yourself………..
“व्यक्ति अकेले जन्मता है और अकेले मरता है; और अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है; और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है।” चाणक्य
“A man is born alone and dies alone; and he experiences the good and bad consequences of his karma alone; and he goes alone to hell or the Supreme abode.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment