अनसीन इंडिया प्रयागराज कुंभ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Unssen India Prayagraj Kumbh : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

अनसीन इंडिया प्रयागराज कुंभ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Unssen India Prayagraj Kumbh : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अनसीन इंडिया प्रयागराज कुंभ / Unssen India Prayagraj Kumbh
Category, ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 705 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यूं तो इन्हे अप्रवासी पक्षी कहा जाता है | ये पक्षी साइबेरिया से यहां आए और अब संगम ही इनका ठिकाना है । कुंभ में आए श्रद्धालुओं का स्वागत ये मेजबान की तरह करते हैं। संगम में नाव से भ्रमण करते श्रद्धालुओं कि नाव पर छा जाते है तो कभी हथेलियों पर रखे सेव पर चोंच मारते है और कल्पवासी भी इनके साथ खेलने में मग्न हो जाते हैं………

Pustak Ka Vivaran : Yun to Inhe Apravasi pakshi kaha jata hai. Ye Pakshi Saiberiya se yahan aaye aur ab sangam hi inaka thikana hai . Kumbh mein aaye Shraddhaluon ka svagat ye mejban ki tarah karate hain. Sangam mein naav se bhraman karate shraddhaluon ki nav par chha jate hai to kabhi hatheliyon par rakhe sev par chonch marate hai aur kalpavasi bhi inake sath khelane mein magn ho jate hain……..

Description about eBook : As such, they are called immigrant birds. These birds came here from Siberia and now Sangam is their destination. They welcome the devotees who come to Kumbh as a host. When traveling by boat in the Sangam, the devotees get caught on the boat, sometimes they peck at the sevage placed on the palms and the Kalpavis too get engrossed in playing with them …….

“कभी कभार सुख के पीछे भागना छोड़ कर बस सुखी होना भी एक अच्छी बात है।” ‐ गियोम अपोलिनेयर
“Now and then it’s good to pause in our pursuit of happiness and just be happy.” ‐ Guillaume Apollinaire

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment