कुम्भ : अनिता भटनागर जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Kumbh : by Anita Bhatnagar Jain Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameकुम्भ / Kumbh
Author
Category, , , ,
Language
Pages 27
Quality Good
Size 8.8 MB
Download Status Available

कुम्भ का संछिप्त विवरण : सूरज अपने नानाजी के साथ कंधों तक ऊँचे पानी में खड़े होकर अंजुली में जल भर उगते हुए सूर्य को प्रणाम कर रहा था। उसकी नानी, संगम के इस स्थल पर जहाँ गंगा, यमुना व अदृश्य सरस्वती नदियाँ मिलती हैं, नाव पर बैठी थीं। नानी की उंगलियाँ माला पर जाप कर रही थीं और चेहरे पर भीनी-सी संतोष भरी……..

Kumbh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sooraj Apane Nanaji ke sath kandhon tak oonche Pani mein khade hokar Anjuli mein jal bhar ugate huye soory ko Pranam kar raha tha. Usaki Nani, Sangam ke is sthal par jahan Ganga, Yamuna va adrshy sarasvatee Nadiyan milato hain, Nav par baithee theen. Nani kee Ungaliyan Mala par Jap kar rahee theen aur chehare par bheenee-see santosh bhari………….
Short Description of Kumbh PDF Book : Suraj was standing with his grandfather in the high water till the shoulders and bowing to the sun rising across the water in Anjuli. His grandmother was sitting on the boat at this place of Sangam, where the rivers Ganga, Yamuna and the invisible Saraswati meet. Granny’s fingers were chanting on the rosary and there was a lot of satisfaction on her face …………..
“यदि आप अपने जीवन को अपनी मर्जी के अनुसार नहीं चला पाते, तो आपको अपनी परिस्थितियों को अवश्य ही स्वीकार कर लेना चाहिए।” ‐ टी एस एलियट
“If you haven’t the strength to impose your own terms upon life, you must accept the terms it offers you.” ‐ T S Eliot

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment