उपनिषदों की वाणी : स्वामी रंगनाथानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Upanishadon Ki Vani : by Swami Ranganathananda Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

उपनिषदों की वाणी : स्वामी रंगनाथानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Upanishadon Ki Vani : by Swami Ranganathananda Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उपनिषदों की वाणी / Upanishadon Ki Vani
Category
Language
Pages 252
Quality Good
Size 50 MB
Download Status Available
उपनिषदों की वाणी पुस्तक का कुछ अंश : अनुभव तथा उसके ज्ञान के बीच होते रहते है उपनिषद कहते है ,कि ये व्याघात उस समय तक रहते है जब तक कि हम इन्द्रियों के स्तर पर रहते है ,जब तक हम अनात्म के परे आत्मा को बहु के परे एक को ,देखने मे असमर्थ रहते तो भी माया के क्षेत्र में हमारे सब अनुभव और ज्ञान, आत्मा का ही अनुभव और जान है………
Upanishadon Ki Vani PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Anubhav tatha uske gyan ke beech hote rahte hai upanishad kahte hai ,ki ye vyaghat us samay tak rahte hai jab tak ki ham indriyon ke star par rahte hai ,jab tak ham anaatm ke pare atma ko ,bahu ke pare ek ko ,dekhne me asamarth rahte to bhi maya ke kshetra mein hamare sab anubhav aur gyan, Atma ka hi anubhav aur gyan hai………….
Short Passage of Upanishadon Ki Vani Hindi PDF Book : The Upanishads are said to be between the experience and its knowledge that the ramifications remain till that time till we live at the level of the senses, while we are unable to see the soul beyond the non-Self, one beyond the multiplication Even in spite of all our experiences and knowledge in the field of Maya, the experience and knowledge of the soul………………
“श्रेष्ठ व्यक्ति बोलने में संयमी होता है लेकिन अपने कार्यों में अग्रणी होता है।” ‐ कंफ्यूशियस
“The superior man is modest in his speech, but exceeds in his actions.” ‐ Confucius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment