उसका बचपन- कृष्ण बलदेव मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Uska Bachpan- Krishna Baldev Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उसका बचपन / Uska Bachpan
Author
Category
Language
Pages 76
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

उसका बचपन पुस्तक का कुछ अंश : चारपाई की गहराई में दादी औंधे मुंह पड़ी हुई है, जैसे कोई बच्चा रोते रोते सो या मर गया हो। ड्योढ़ी इस मकान का मुंह है, जो कभी खुलता है तो कभी बंद हो जाता है। डूयोढ़ी की दीवारें जगह-जगह से उधड़ी हुई हैं। कच्चे पलस्तर के मोटे-मोटे छिलके ऐसे दिखाई देते हैं जैसे किसी बीमार के ओठों पर जमी हई पपड़ियां हों। छत की शहतीरें धुएं के कारण काली हो………..

Uska Bachpan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Charapai kee gaharaee mein dadee aundhe munh padee huee hai, jaise koee bachcha rote rote so ya mar gaya ho. dyodhee is makaan ka munh hai, jo kabhee khulata hai to kabhee band ho jaata hai. dooyodhee kee deevaaren jagah-jagah se udhadee huee hain. kachche palastar ke mote-mote chhilake aise dikhaee dete hain jaise kisee beemaar ke othon par jamee haee papadiyan hon. chhat kee shahateeren dhuen ke kaaran kaalee ho………..
Short Passage of Uska Bachpan Hindi PDF Book : In the depths of the cot, grandmother is lying face down, as if a child has died while crying. Antechamber is the mouth of this house, which sometimes opens and sometimes closes. The walls of Doodhi are uprooted at many places. Thick peels of raw plaster appear as if there are frozen crusts on the lips of a sick person. The rafters of the roof are black because of the smoke….
“अज्ञानी व्यक्ति वह प्रश्न पूछते हैं जिनका उत्तर समझदार व्यक्तियों द्वारा एक हजार वर्षों पहले दे दिया गया होता है।” ‐ गोएथ
“Ignorant men raise questions that wise men answered a thousand years ago.” ‐ Goethe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment