वैद्यक रसराज महोदधि भाषा भाग – १ : भगत भगवान दास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Vaidhyak Rasraj Mahodadhi Bhasha Part – 1 : by Bhagat Bhagwan Das Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

Book Nameवैद्यक रसराज महोदधि भाषा भाग – १ / Vaidhyak Rasraj Mahodadhi Bhasha Part – 1
Author
Category, , ,
Language
Pages 837
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अंजीर के र॑ग मूत्रहोय तो खून से बिगड़ा मूत्र समझो. और केसरी के रंग का मूत्र होय तो वादी वा पित्तस बिगड़ा मूत्र जानो. और उनके रंग मूत्र होय तो और जडा स्याही रंगलिये होय तो गरमी का रोग जानो. और जो निहायत कालारंग हो तो असाध्य जानो और जो कि ज्वर मिला होतो ६ महिना के अंदर मेरे और ज्वर न रहे काला र॑ग मूत्रहोय तो……

Pustak Ka Vivaran : Anjeer ke Rang Mootrahoy to khoon se bigada mootr samajho. Aur kesaree ke rang ka Mootr hoy to vadi va pittas bigada mootr jano. Aur unake rang mootra hoy to aur jada syahi Rangaliye hoy to garamee ka rog jano. Aur jo nihayat kalarang ho to asadhy jaano aur jo ki jvar mila hoto 6 mahina ke andar mere aur jvar na rahe kala rang mootrahoy to…….

Description about eBook : If the color of figs is urine, consider urine impaired by blood. And if you have urine of Kesari color, then know whether the plaintiff or the gall bladder impaired urine. And if their color is urine and if the ink is colored, then know the disease of heat. And if it is very colorful then know that it is incurable and if ……….

“उस व्यक्ति को आलोचना करने का अधिकार है जो सहायता करने की भावना रखता है।” ‐ अब्राहम लिंकन
“He has the right to criticize who has the heart to help.” ‐ Abraham Lincoln

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment