वक्रोक्ति और अभिव्यञ्जना : रामनरेश वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Vakrokti Aur Abhivyanjana : by Ramnaresh Verma Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

वक्रोक्ति और अभिव्यञ्जना : रामनरेश वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Vakrokti Aur Abhivyanjana : by Ramnaresh Verma Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वक्रोक्ति और अभिव्यञ्जना / Vakrokti Aur Abhivyanjana
Author
Category,
Language
Pages 242
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

वक्रोक्ति और अभिव्यञ्जना का संछिप्त विवरण : प्रातिभ ज्ञान आत्मा की क्रिया है। मन पर पड़ी छाप या संस्कार या अभाव को, जो जगत के नाना रूपों, व्यापारों आदि के होते हैं, उपादान के रूप में कल्पना अपने सूक्ष्म साँचे में भरकर अपनी कृति को गोचर करती है। कला के क्षेत्र में साँचा ( फार्म ) ही सब कुछ है, द्रव्य ( मैटर ) कुछ नहीं । प्रातिभ ज्ञान का सौँचे में ढलकर व्यक्त होना कल्पना है और वही मूल अभिव्यजज्जना ( एक्सप्रेशन ) है……

Vakrokti Aur Abhivyanjana PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pratibh Gyan Atma ki kriya hai. Man par padi chhap ya sanskar ya abhav ko, jo jagat ke nana Roopon, vyaparon aadi ke hote hain, upadan ke roop mein kalpana apane sookshm sanche mein bharakar apni krti ko gochar karati hai. Kala ke kshetra mein sancha ( pharm ) hi sab kuchh hai, dravy ( maitar ) kuchh nahin . Pratibh gyan ka sanche mein dhalkar vyakt hona kalpana hai aur vahi mool abhivyajannana ( Eksapreshan ) hai……
Short Description of Vakrokti Aur Abhivyanjana PDF Book : Genuine knowledge is the action of the soul. Imagination as a product of the imprint or lack of rites on the mind, which consists of many forms of the world, trades, etc., transmit its work by filling it in its microscopic mold. In the field of art, form is everything, matter is nothing. It is imagination to express the natural knowledge by casting it in the mold and that is the original expression …….
“मैंने प्रेम को ही अपनाने का निर्णय किया है। द्वेष करना तो बेहद बोझिल काम है।” ‐ मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“I have decided to stick with love. Hate is too great a burden to bear.” ‐ Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment