विदिशा : महेश्वरी दयाल खरे द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Vidisha : by Maheshwari Dayal Khare Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विदिशा / Vidisha
Author
Category,
Language
Pages 316
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

विदिशा पुस्तक का कुछ अंश : महापुरुष जन्म लेते हैं, उत्कृष्ट जीवन व्यतीत करते हैं और दिवंगत हो जाते हैं| विशाल साम्राज्यों की नींव पड़ती है, विस्तृत होते हैं और विनष्ट हो जाते हैं| महानगरों का निर्माण होता है, समृद्धशाली होते हैं और भूत के गर्भ में विलीन हो जाते हैं| केवल प्रकृति ही निरन्तर क्रियाशील रहती है, जिसका अनुपम उपहार मनुष्य है………….

Vidisha PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Mahapurush janm lete hain, utkrsht jeevan vyateet karte hain aur divangat ho jate hain. Vishal Samrajyon ki neenv padti hai, vistrt hote hain aur vinasht ho jate hain. Mahanagaron ka nirman hota hai, samrddhashali hote hain aur bhoot ke garbh mein vileen ho jate hain. Keval prakrti hi nirantar kriyasheel rahti hai, jisaka anupam upahar manushy hai………….
Short Passage of Vidisha Hindi PDF Book : Great men are born, lead great lives and die. Great empires are founded, expanded and destroyed. Metropolises are built, prosper and merge into the womb of ghosts. Only nature remains active continuously, whose unique gift is man……
“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” ‐ विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” ‐ Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment