विज्ञान और उन्मुक्तता : डी. डी. कोसांबी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – विज्ञान | Vigyan Aur Unmuktata : by D. D. Kosambi Hindi PDF Book – Science (Vigyan)

विज्ञान और उन्मुक्तता : डी. डी. कोसांबी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - विज्ञान | Vigyan Aur Unmuktata : by D. D. Kosambi Hindi PDF Book - Science (Vigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विज्ञान और उन्मुक्तता / Vigyan Aur Unmuktata
Author
Category, ,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 1016 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : वे ऐसे समाज में रहते थे जिसकी सोच श्री कि संगीतज्ञ की तनख्वाह देने वाले को उससे अपनी पसंद की धुन अजवाने का पूरा अधिकार होता है। इसलिए उनको यह अनुमान नहीं था कि विज्ञान अब उस पुराने जमाने की तरह ‘स्वाधीन’ नहीं रह गया था जब उत्पाद का उद्योग अभी तकनीकी विकास के…….

Pustak Ka Vivaran : Ve Aise Samaj mein rahate the Jisaki soch Shri ki Sangeetagy ki Tankhvah dene vale ko usase Apani pasand kee dhun Ajavane ka poora Adhikar hota hai. Isaliye unako yah anuman nahin tha ki vigyan ab us Purane jamane ki tarah svadheen nahin rah gaya tha jab utpad ka udyog abhi Takaneeki vikas ke………

Description about eBook : He lived in a society whose thinking that the musician’s salary earner had every right to sing the tune of his choice. Therefore, he did not anticipate that science was no longer ‘independent’ like that of the old times when the product industry was still under technological development …….

“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” ‐ चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment