विरहिणी गोपिका : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Virahini Gopika : Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

विरहिणी गोपिका : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Virahini Gopika : Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विरहिणी गोपिका / Virahini Gopika
Author
Category, ,
Language
Pages 131
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

आदि शंकराचार्य का संछिप्त विवरण : दुखिया की यह आह उसका कलेजा छेड़ गई। पथिक रास्ता चलना भूल गया। आकाश की ओर देख तारा से मूक प्रार्थना करने लगा। बेचारे नाविक की तरणी भैवर में जा पड़ी। पतवार हाथों से छूट गयी। हृदय में करुणाधार का ध्यान लगा वह बैठ गया। जीवन एक विकट पहेली है। और वह भी ‘प्यारे की विरहिनि की बड़ी करुण कहानी जिसने प्यारे को प्यार करने की सोची……

Aadi Shankaracharya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dukhiya ki yah Aah usaka kaleja chhed gayi. Pathik Rasta chalana bhool gaya. Aakash ki or dekh Tara se Mook prarthana karane laga. Bechare Navik ki Tarani bhaivar mein ja padi. Patvar hathon se chhoot gayi. Hraday mein karunadhar ka dhyan laga vah baith gaya. Jeevan ek vikat paheli hai. Aur vah bhi pyare ki Virahini ki badi karun kahani jisane pyare ko pyar karane ki sochi…..
Short Description of Aadi Shankaracharya PDF Book : This sigh of sadness touched his heart. Wanderer forgot to walk Looking at the sky, started praying silently to Tara. The poor sailor had to go to Tarani Bhaira. The hull was left by the hands. He sat in his heart looking for compassion. Life is an enigma. And that too ‘Pyar ki Virhini’s big Karun story that thought of loving Pyare ……
“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” – विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” – Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment