विश्वामित्र और दो भाव नाट्य : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Vishvamitra Aur Do Bhav Natya : Hindi PDF Book – Drama (Natak)

विश्वामित्र और दो भाव नाट्य : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Vishvamitra Aur Do Bhav Natya : Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विश्वामित्र और दो भाव नाट्य / Vishvamitra Aur Do Bhav Natya
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 154
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

विश्वामित्र और दो भाव नाट्य का संछिप्त विवरण : ताल भूली रागिनी हूँ साज मेरा शिथिल-सा री। मन्द मारुत मलय मद ले निशा का मुखचूमता है साध पहलू में छिपाये चन्द्र मद में झूमता है कुसुम चषकों में किरण रस भर धरा मद पी रही है उड़ रहा जग श्वास के रथ, आस आँसू-सी रही है कमल के मकरन्द में पीता भ्रमर मधु कल्पनारी ताल भूरी रागिनी हूँ साज मेरा…

Vishvamitra Aur Do Bhav Natya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Tal Bhooli Ragini hoon saj mera shithil-sa ri. Mand marut malay mad le nisha ka Mukhachoomata hai sadh pahalu mein chhipaye chandra mad mein jhoomata hai kusum chashakon mein kiran ras bhar dhara mad pi rahi hai ud raha jag shvas ke rath, Aas aansoo-si rahi hai kamal ke makrand mein peeta bhramar madhu kalpanari tal bhoori Ragini hoon saj mera……
Short Description of Vishvamitra Aur Do Bhav Natya PDF Book : I have forgotten the rhythm of the ragini, the instrument is my slack-sa ri. Taking a dim Marut Malay item, Nisha’s face kisses the moon hidden in the sad aspect Taal Bhuri Ragini is my instrument……
“हमें न अतीत पर कुढ़ना चाहिए और न ही हमें भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए; विवेकी व्यक्ति केवल वर्तमान क्षण में ही जीते हैं।” ‐ चाणक्य
“We should not fret for what is past, nor should we be anxious about the future; men of discernment deal only with the present moment.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment