यहाँ से वहाँ तक : महेन्द्रनाथ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Yahan Se Vahan Tak : by Mahendra Nath Hindi PDF Book – Story (Kahani)

यहाँ से वहाँ तक : महेन्द्रनाथ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Yahan Se Vahan Tak : by Mahendra Nath Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यहाँ से वहाँ तक / Yahan Se Vahan Tak
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 148
Quality Good
Size 3.6 MB
Download Status Available

यहाँ से वहाँ तक का संछिप्त विवरण : और कपिला उन लड़कियों में से थी; जिनके दिल व मस्तिष्क में लाहौर की रंगीन बहारें बसी हुई थीं। यूंही मन ही मन में कपिला अपने आप को नई बहार में पाती, स्वप्नों से अपने मस्तिष्क को भर लेती। वह लाहौर को जी भर कर देखना चाहती थी, उसके हर क़ोने हर बज़ार हर होटल, हर सिनेमा को वह मैकलोड रोड पर सेर करता चाहती……..

Yahan Se Vahan Tak PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aur Kapila un Ladakiyon mein se thee;  Jinake dil va mastishk mein lahore ki rangeen baharen basi huyi theen. Yoonhi man hi man mein kapila apane aap ko nayi bahar mein pati, svapnon se apane mastishk ko bhar leti. Vah lahore ko ji bhar kar dekhana chahati thi, usake har qone har bazar har hotal, har Cinema ko vah maikalod rod par ser karata chahati……….
Short Description of Yahan Se Vahan Tak PDF Book : And Kapila was among those girls; In whose heart and mind the colorful springs of Lahore were settled. Just like this, Kapila would find herself in the new spring, filling her mind with dreams. She wanted to see Lahore to the fullest, every corner of it, every market, every hotel, every cinema she wanted to set up on McLeod Road…….
“प्रकृति का अध्ययन करें, प्रकृति से प्रेम करें, प्रकृति के सान्निध्य में रहें। यह आपको कभी हताश नहीं करेगी।” ‐ फ्रैंक लॉयड राइट
“Study nature, love nature, stay close to nature. It will never fail you.” ‐ Frank Lloyd Wright

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment