यम पितृ परिचय : पंडित प्रियरत्न जी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Yama Pitru Parichay : by Pt. Priyaratna ji Free Hindi PDF Book

Book Nameयम पितृ परिचय / Yama Pitru Parichay
Author
Category, , ,
Language
Pages 455
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस “यमपितृपरिचय” पुस्तक में यम और पितर प्रकरण वाले मंत्र के स्पष्ट रीति से अर्थ किये गये हैं जिनमें विभिन्न उपयोगी विषयों का समावेश है| उनका संक्षिप्त विवरण यह है कि “ईश्वर का सृष्टि क्रतत्व, सृष्टिक्रम, जीवात्मा का मित्यत्व, भौतिकविद्या, सूर्या विज्ञान, ज्योतिष आदि विधाएं| इस पुस्तक में इस प्रकार के अनेक धार्मिक विषयों का समावेश है……………

Pustak Ka Vivran : Is “Yamapitrparichay”       Pustak mein yam aur pitar prakaran vale mantr ke spasht Reeti se arth kiye gaye hain jinamen vibhinn upayogi vishayon ka samavesh hai. Unka sankshipt vivran yah hai ki “Ishvar ka srshti kratatv, srshtikram, jeevatma ka mityatv, bhautikavidya, soorya vigyan, jyotish aadi vidhayen. Is Pustak mein is prakar ke anek dharmik vishayon ka samavesh hai……………

Description about eBook : Essentially spiritual contemplation- Those who turn from spiritual contemplation and only engage in humanitarian work, They are deceived by their own success or virtues.At this stage they expect everyone to admire his work, he said, according.The increased number of people as an enemy gives them pride | Public Service by not making them public on their real public servant takes the form of destruction……………….

“मेरी पीढ़ी की महानतम खोज यह रही है कि मनुष्य अपने दृष्टिकोण में परिवर्तन कर के अपने जीवन को बदल सकता है।” – विलियम जेम्स (१८४२-१९१०), अमरीकी दार्शनिक
“The greatest discovery of my generation is that a human being can alter his life by altering his attitudes.” – William James (1842-1910), American Philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “यम पितृ परिचय : पंडित प्रियरत्न जी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Yama Pitru Parichay : by Pt. Priyaratna ji Free Hindi PDF Book”

  1. There is a correction needed in the Hindi Translation of the saying I have done the correction below

    हमेशा तर्क करने वाले का दिमाग सिर्फ धार वाले चाकू की तरह है जो प्रयोग करने वाले के हाथ से ही खून निकाल देता है।”
    – रवीन्द्रनाथ टैगोर

    Reply
    • आभार मोहित जी

      हमने कथन अपडेट कर दिया है , देर से REPLY के लिए खेद है

      धन्यवाद

      Reply

Leave a Comment