यथार्थ और कल्पना : श्री उदयशंकर भट्ट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Yatharth Aur Kalpana : by Shri Uday Shankar Bhatt Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameयथार्थ और कल्पना / Yatharth Aur Kalpana
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 96
Quality Good
Size 4.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आज कविता का वही रूप है जिसमें छंदों का बन्धन टूटने के कारण कविता-नर्तकी स्कूल की अध्यापिका को तरह ऊँची एड़ी के जूते पहनकर ऊंची-नीची सड़क पर खट-खट करती चल रही है। आज उसकी माँग में न तो सिन्दूर है, न माथे पर झूमर; न गले में मुक्ताहार है न हाथों में कंकण ; न……….

Pustak Ka Vivaran : Aaj Kavita ka vahi roop hai jisamen chhandon ka bandhan Tootane ke karan kavita-Nartaki school ki adhyapika ko tarah oonchi edee ke joote pahanakar oonchi-Neechi sadak par khat-khat karati chal rahi hai. Aaj usaki mang mein na to sindoor hai, na mathe par jhoomar; na gale mein muktahar hai na hathon mein kankan ; na………

Description about eBook : Today is the same form of poetry in which, due to the breaking of the verses, the poem-dancer is walking on the high-low street, wearing high school shoes, like a teacher. Today there is neither vermilion in her demand nor chandelier on her forehead; There is neither free speech in the throat nor kankana in the hands; not………

“स्वास्थ्य की हानि होने पर न तो प्रेम, न ही सम्मान, न ही धन-दौलत और न ही बल द्वारा हृदय को खुशी मिल सकती है।” – जॉन गे
“Nor love, not honour, wealth nor power, can give the heart a cheerful hour when health is lost. ” – John Gay

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment