यात्रा – साहित्य का उद्भव और विकास : डॉ. सुरेन्द्र माथुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Yatra – Sahitya Ka Udabhv Aur Vikas : by Surendra Mathur Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

यात्रा - साहित्य का उद्भव और विकास : डॉ. सुरेन्द्र माथुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Yatra - Sahitya Ka Udabhv Aur Vikas : by Surendra Mathur Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यात्रा – साहित्य का उद्भव और विकास / Yatra – Sahitya Ka Udabhv Aur Vikas
Author
Category,
Language
Pages 396
Quality Good
Size 23 MB
Download Status Available

यात्रा – साहित्य का उद्भव और विकास का संछिप्त विवरण : इस ग्रंथ के प्रणयन में मेरे योग्य निर्देशक – गुरुवर डाक्टर ब्रजकिशोरजी मिश्र का महत्त्वपूर्ण हाथ रहा है। उन्होंने अपने सुलझे हुए विचारों से मुझे महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए हैं और आलोचना की दिल्या में मुझे स्वच्छ दृष्टि प्रदान की है। साथ ही डाक्टर दीनदयालुजी गुप्त ने समय-सयय पर मुझे अमूल्य सुझाओं के साथ सदैव प्रोत्साहन दिया है, इन दोनों गुरुवरों की कृपा के कारण ही यह प्रबन्ध प्रस्तुत हो सका……….

Yatra – Sahitya Ka Udabhv Aur Vikas PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Is Granth ke pranayan mein mere yogy Nirdeshak – Guruvar doctor brajkishora ji mishra ka Mahattvapurn haath raha hai. Unhonne apane sulake huye vicharon se mujhe mahattvapurn sujhav diye hain aur Aalochana ki dilya mein mujhe svachchh drshti pradan ki hai. Sath hi doctor deendayalu ji gupt ne samay-sayay par mujhe amooly sujhayon ke sath sadaiv protsahan diya hai, in donon guruvaron ki krpa ke karan hi yah bhrabandh prastut ho saka………
Short Description of Yatra – Sahitya Ka Udabhv Aur Vikas PDF Book : My qualified director – Guruvar Doctor Brajkishoreji Mishra has played an important role in the implementation of this book. He has given me important suggestions from his faint thoughts and has given me clean vision in the heart of criticism. At the same time, Dr. Deendayalji Gupta has always encouraged me with invaluable suggestions from time to time, due to the grace of these two gurus, this confusion could be presented ……
“ऐसा छात्र जो प्रश्न पूछता है, वह पांच मिनट के लिए मूर्ख रहता है, लेकिन जो पूछता ही नहीं है वह जिंदगी भर मूर्ख ही रहता है।” ‐ चीनी कहावत
“The student who asks is a fool for five minutes, but he who does not ask remains a fool forever.” ‐ Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment