ये और वे : जैनेन्द्र कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Ye Aur Ve : by Jainendra Kumar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameये और वे / Ye Aur Ve
Author
Category,
Language
Pages 188
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : छुटपन से ही नाम सुनता और चित्र देखता आया था। कहा ही नहीं जा सकता कि नाम का परिचय पहले कब हुआ। होश आया तब से ही वह नाम परिचित रहा है। नोबेल पुरस्कार पाते ही इस नाम की दुनिया में धूम हो गई। मैं तब बच्चा ही था और अक्षराम्भ में था। उनका अविष्कार मुझे नहीं करना पढ़ा जैसे कि और लेखकों के नामों के सम्बन्ध ……

 

Pustak Ka Vivaran : Chhutapan se hee Nam sunata aur chitr dekhata Aaya tha. Kaha hee nahin ja sakata ki Nam ka parichay pahale kab huya. Hosh Aaya tab se hee vah Nam parichit raha hai. Nobel Puraskar pate hee is nam kee duniya mein dhoom ho gayi. Main tab bachcha hee tha aur Aksharambh mein tha. Unaka avishkar mujhe nahin karana padha jaise ki aur lekhakon ke namon ke sambandh…………

Description about eBook : He had heard the name and seen the picture since childhood. It cannot be said when the name was first introduced. The name has been familiar since then. As soon as he got the Nobel Prize, the name became popular in the world. I was a child then and was in alphabet. I did not know how to invent them like and the relationship of the authors’ names………..

“या आप अपने दिन को चलाते हैं, या दिन आपको चलाता है।” जिम रोह्न
“Either you run the day, or the day runs you.” Jim Rohn

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment