जंगल की रानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Jangal Ki Rani : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameजंगल की रानी / Jangal Ki Rani
Category, , , ,
Language
Pages 16
Quality Good
Size 1.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लेकिन अब वो इंतजार करते-करते थक गया था. और इसलिए वो सूरज ढलने के तुरंत बाद जेंटल हाउस में सोने के लिए चला गया. रात में कृष्ण की आँख खुली. फिर वो खिड़की के पास गया. वहां अँधेरे में उसे एक बूढ़ा सन्‍यांसी दिखाई दिया, जो एक छोटी सी गठरी लिए हए था. जेंटल हाउस के दरवाजे की ओर बढ़ रहा सन्‍यासी थका हुआ और धूल-धूसरित लग रहा था. उसने कोई घंटी नहीं बजाई. उसने एक शब्द नहीं कहा. उसने उस गठरी को दरवाजे पर रख दिया और फिर अंधेरे में गायब हो गया……..

Pustak Ka Vivaran : Lekin ab vo intjar karte-karate thak gaya tha. Aur isliye vo sooraj dhalane ke turant bad jental haus mein sone ke liye chala gaya. Rat mein krishna ki Aankh khuli. Phir vo khidki ke pas gaya. Vahan andhere mein use ek boodha san‍yansi dikhayi diya, jo ek chhoti si gathari liye haye tha. Jental haus ke darvaje ki or badh raha san‍yasi thaka huya aur dhool-dhoosarit lag raha tha. Usane koi ghanti nahin bajayi. usane ek shabd nahin kaha. Usane us gathari ko darvaje par rakh diya aur phir andhere mein gayab ho gaya……..

Description about eBook : But now he was tired of waiting. And so he went to sleep at the Gentle House soon after sunset. Krishna’s eyes opened in the night. Then he went to the window. There in the darkness he saw an old hermit, who was carrying a small bundle. The sannyasi walking towards the door of the Gentle House looked tired and dusty. He didn’t ring any bell. He didn’t say a word. He put that bundle on the door and then disappeared in the dark……

“निकम्मे लोग सिर्फ खाने पीने के लिए जीते हैं, लेकिन सार्थक जीवन वाले जीवित रहने के लिए ही खाते और पीते हैं।” ‐ सुकरात
“Worthless people live only to eat and drink; people of worth eat and drink only to live.” ‐ Socrates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment