अक्षत : शिवसागर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Akshat : by Shiv Sagar Mishra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

अक्षत : शिवसागर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Akshat : by Shiv Sagar Mishra Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अक्षत / Akshat
Author
Category, , , ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : राजदेव को लगा , जैसे वे गहरी नींद से जागन का कोशिश कर रहे हो। लेकिन, वे अपनी आँखें नहीं खोल पर रहे है। लेटे-लेटे ही उन्होंने अपने-आपको भयंकर तन्द्रा से मुक्त करने का चेतन प्रयत्र किया। इस क्रम में उन्हें आभास हुआ कि वे कहीं उबड़खाबड़ जमीन पर पड़े हुए है। उनका दाहिना हाथ अनायास ही अगल-बगल की जमीन को टटोलने लगा कि तभी उनकी उँगलियों से किसी झाड़ की कंटोली…….

Pustak Ka Vivaran : Rajdev ko laga , Jaise ve Gahari neend se jagan ka koshish kar rahe ho. lekin, ve Apani Ankhen nahin khol par rahe hai. Lete-lete hee unhonne apane-aapako bhayankar tandra se mukt karane ka chetan prayatn kiya. Is kram mein unhen aabhas huya ki ve kahin ubadakhabad jamin par pade huye hai. Unaka dahina hath anayas hee agal-bagal kee jameen ko tatolane laga ki tabhi unaki ungaliyon se kisi jhad kee kantoli…………

Description about eBook : Rajdev felt as if he was trying to awaken from his deep sleep. But, they are not opening their eyes. While lying, he tried to liberate himself from the terrible sleep. In this sequence, he realized that he was lying somewhere on bumpy ground. His right hand involuntarily began to grope on the side of the ground when his fingers cut a chandelier………..

“समय और स्वास्थ्य दो बहुमूल्य सम्पत्तियां हैं जिनकी पहचान तथा मूल्य हम उस समय तक नहीं समझते जब तक उनका नाश नहीं हो चुका होता है।” – डेनिस वेटले
“Time and health are two precious assets that we don’t recognize and appreciate until they have been depleted. ” – Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment