चाँद के धब्बे : शिवसागर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Chand Ke Dhabbe : by Shiv Sagar Mishra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

चाँद के धब्बे : शिवसागर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Chand Ke Dhabbe : by Shiv Sagar Mishra Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चाँद के धब्बे / Chand Ke Dhabbe
Author
Category, , , ,
Language
Pages 186
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : और उस रोज तो हद हो गई। उसकी माँ मर चुकी है लेकिन तब भी बेचारी को शांति नहीं। दिन-रात बड़ी भाभी उसकी माँ को कोसती रहती है। भुवन ने लाख मिन्नतें की की वह चुकी है-वह इन बातों को अब नहीं सुनती। उसे कुछ भी कहना अपनी जवान को तकलीफ देना है। लेकिन बड़ी भाभी को तो भुवन को सुनाता था……….

Pustak Ka Vivaran : Aur us Roj to Had ho Gayi. Usaki man mar chuki hai Lekin tab bhee bechari ko shanti Nahin. Din-Rat badi bhabhi usaki man ko kosati rahati hai. Bhuvan ne Lakh Minnaten kee kee vah chuki hai-vah in baton ko ab nahin sunati. Use Kuchh bhi kahana apani javan ko Takaleeph dena hai. Lekin Badi bhabhi ko to Bhuvan ko sunata tha………

Description about eBook : And the limit was reached that day. His mother is dead but the poor still have no peace. Her mother-in-law curses her mother day and night. Bhuvan pleaded that she has been done – she no longer listens to these things. He has to hurt his young man to say anything. But elder sister used to tell Bhuvan ……

“जिसके पास स्वास्थ्य है, उसके पास आशा है तथा जिसके पास आशा है, उसके पास सब कुछ है।” ‐ अरबी कहावत
“He who has health has hope, and he who has hope has everything.” ‐ Arabian Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment