अलौकिक जीवन की कला : ओशो शैलेन्द्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Alaukik Jeewan Ki Kala : by Osho Shailendra Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameअलौकिक जीवन की कला / Alaukik Jeewan Ki Kala
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 64
Quality Good
Size 9 MB

पुस्तक का विवरण : एक चुटकला सुनाता हूँ पहले, फिर संक्षेप में ही समझ में आ जाएगी बात। एक विद्यार्थी स्कूल में पहुँचा। ‘एक पैर में लाल जूता पहना था, एक में काले रंग का। शिक्षक ने कहा कि नालायक एक काला और एक लाल जूता पहन कर क्यों आए हो ? शिक्षक ने कहा कि जाओ और घर जाकर जूते बदलकर आओ । उस विद्यार्थी ने कहा कि सर घर जाने से भी ………

Pustak Ka Vivaran : Ek chutakala sunata hoon pahale, phir sankshep mein hee samajh mein aa jayegi ba]at. Ek vidyarthi school mein pahuncha. Ek pair mein laal joota pahana tha, ek mein kale rang ka. Shikshak ne kaha ki Nalayak ek kaala aur ek lal joota pahan kar k‍yon aaye ho ? Shikshak ne kaha ki jao aur ghar jakar joote badalakar aao. Us vidyarthi ne kaha ki sar ghar jane se bhi……….

Description about eBook : I will tell a joke first, then only briefly it will be understood. A student arrived at the school. ‘He wore a red shoe in one leg, black in one. The teacher said, “Why has Nalayak come wearing a black and a red shoe?” The teacher said go and go home and change shoes. The student said that even before going home …….

“हम आगे बढ़ते हैं, नए रास्ते बनाते हैं, और नई योजनाएं बनाते हैं, क्योंकि हम जिज्ञासु है और जिज्ञासा हमें नई राहों पर ले जाती है।” ‐ वाल्ट डिज़्नी
“We keep moving forward, opening new doors, and doing new things, because we are curious and curiosity keeps leading us down new paths.” ‐ Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment