अमृत और विष : अमृतलाल नागर – द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Amrit Aur Vish : by Amritlal Nagar Hindi PDF Book – Novel(Upanyas)

Book Nameअमृत और विष / Amrit Aur Vish
Author
Category,
Language
Pages 327
Quality Good
Size 28 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आज से कई वर्ष पहले नागराज जी ने जब इस उपन्यास की शुरुआत की थी और इसके कुछ प्रारंभिक अध्याय बम्बई में सुनाए थे, तो पुत्ती गुरु कौ लड़की क ब्याह और बारातवाला अंश बहुत पसंद किया गया था, लेकिन लगता था कि यह तो नागरजी कि कमल का जाना- पहचाना क्षेत्र है ही, अरविंदशंकर वाला अंश इससे बिलकुल मेल नहीं खाता था…….

Pustak Ka Vivaran : Aj se kai varsh phale nagraj ji ne jab is upanyas ki shuruat ki thi aur iske kuchh prarambhik adhyay bambi mein sunae the, To putti guru ko ladki ka byah aur baratvala ansh bahut pasand kiya gaya tha, Lekin lagta tha ki yah to nagraji ki kamal ka jana- pahchana kshetr hai hi, arvindashankar vala ansh isse bilkul mel nahin khata tha……….……

Description about eBook : Many years ago when Nagraj ji started this novel and some of its early chapters were narrated in Bombay, then the daughter of the girl and the Bara-rama part was highly liked by Puthi Guru, but it seemed that it was a lotus There is a well-known area, Arvindshankar’s part did not match it altogether……..

“किसी व्यक्ति के दिल-दिमाग को समझने के लिए इस बात को न देखें कि उसने अभी तक क्या प्राप्त किया है, अपितु इस बात को देखें कि वह क्या अभिलाषा रखता है।” कैहलिल जिब्रान
“To understand the heart and mind of a person, look not at what he has already achieved, but at what he aspires to.” Kahlil Gibran

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment