अनौपचारिका फरवरी 2021 (समकालीन शिक्षा चिंतन की मासिक पत्रिका) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Anaupcharika February 2021 (Samkalin Shiksha Chintan Ki Masik Patrika) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

Book Nameअनौपचारिका जनवरी 2020 (समकालीन शिक्षा चिंतन की मासिक पत्रिका) / Anaupcharika February 2021 (Samkalin Shiksha Chintan Ki Masik Patrika
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 28
Quality Good
Size 2.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देश की आत्मा कहे जाने वाले किसान मजदूरों को आत्महत्या करने को मजबूर करके क्या हम अपने को आजाद देश का आजाद नागरिक कहेंगे! देश गांधी के ज॑तर को पूरी तरह भूल गया है। बापू ने तो उन करोड़ों भूखे और नंगे लोगों को स्वराज्य दिलाने की बात कही थी। लोहे की दीवारें जो किसानों  के सामने खड़ी की गई हैं वे तो दीखती हैं……..

Pustak Ka Vivaran : Desh ki Aatma kahe jane vale kisan Majdooron ko Aatmahatya karne ko Majboor karke k‍ya ham apne ko Aajad desh ka Aajad nagarik kahenge ! Desh Gandhi ke jantar ko poori tarah bhool gaya hai. Bapu ne to un karodon bhookhe aur Nange logon ko Svarajy dilane ki bat kahi thi. Lohe ki Deevaren jo kisanon ke samane khadi ki gayi hain ve to deekhati hain………

Description about eBook : By forcing the farmer laborers who are called the soul of the country to commit suicide, will we call ourselves a free citizen of a free country! The country has completely forgotten Gandhi’s Jantar. Bapu had talked about providing Swaraj to those crores of hungry and naked people. The iron walls that have been erected in front of the farmers are visible……….

“केवल प्रतिभाशाली होने से ही काम नहीं चलता। ईश्वर प्रतिभा देता है तो प्रतिभा को विलक्षणता में परिणत कर देता है काम।” अन्ना पाव्लोवा (१८८१-१९३१), रूसी नर्तकी
“No one can arrive from being talented alone. God gives talent; work transforms talent into genius.” Anna Pavlova.(1881-1931), Russian ballerina

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment