अनकहा प्रेम : सीमा जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Ankaha Prem : by Seema Jain Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

अनकहा प्रेम : सीमा जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Ankaha Prem : by Seema Jain Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अनकहा प्रेम / Ankaha Prem
Author
Category, ,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 943 KB
Download Status Available

अनकहा प्रेम पुस्तक का कुछ अंशमेरा अट्ठारहवा जन्मदिन था , डैड ने बहुत बड़ी पार्टी का आयोजन किया था। सब मेहमान आ गये थे बस डैड नज़र नहीं आ रहे थे,घर में स्थित अपने आफिस में बैठे काम कर रहे होंगे।मैं ने मॉम का गाऊन पहना था और उनकी तरह बाल बनाएं थे इसलिए बिल्कुल उनका प्रतिबिंब लग रही थी। आदमकद शीशे में अपने आप को निहारते हुए सोच रही थी काश इस समय वह भी मेरे साथ खड़ी होती तो हम दो बहनें लगती, लेकिन दो साल पहले एक सड़क हादसे के कारण वो मुझे और डैड को छोड़ कर चलीं गईं थीं। इससे पहले मेरे आंसू बहने शुरू हो जाते मैं जल्दी से कमरे से बाहर आ गई…….

Munshi Premchand PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Mera attharhava janmdin tha , daid ne bahut badi parti ka aayojan kiya tha. Sab mehaman aa gaye the bas daid nazar nahin aa rahe the,ghar mein sthit apne aaphis mein baithe kaam kar rahe honge. Main ne mom ka gaon pahna tha aur unki tarah baal banen the islie bilkul unka pratibimb lag rahi thi. Aadamkad shishe mein apne aap ko niharte hue soch rahi thi kash is samay vah bhi mere sath khadi hoti to ham do bahnen lagti, lekin do saal pahle ek sadak hadase ke karan vo mujhe aur daid ko chod kar chalin gain thin. Isse pahle mere aansu bahne shuru ho jate main jaldi se kamre se bahar aa gai………….
Short Passage of Munshi Premchand Hindi PDF Book : I had an eighteenth birthday, Dade organized a big party. All the guests had come, the dad was not able to see, sitting in his office sitting in his office. I had worn a mother’s cow and had to make hair like her, so she was looking at her reflection. Manekshad was thinking while observing himself in the mirror, Wish, he would have stood with me this time, then we would have two sisters, but two years ago, due to a road accident, he left me and left the dad. Before my tears started to flow, I quickly came out of the room……………
“अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए समय न निकालने वाला व्यक्ति ऐसे मिस्त्री के समान होता है तो अपने औजारों की ही देखभाल में व्यस्त रहता है।” ‐ स्पेन की कहावत
“A man too busy to take care of his health is like a mechanic too busy to take care of his tools.” ‐ Spanish Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment