अन्तजर्वाला : वीर श्री सावरकर जी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antarjawarla : by Veer Sri Savarkar Ji Hindi PDF Book

अन्तजर्वाला : वीर श्री सावरकर जी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antarjawarla : by Veer Sri Savarkar Ji Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अन्तजर्वाला / Antarjawarla
Author
Category, ,
Pages 162
Quality Good
Size 46 MB
Download Status Available

अन्तजर्वाला का संछिप्त विवरण : बंधुओं। आज जिस परस्थिति मे हम लोग यहाँ अपनी राष्ट्रीय समस्याओं को सुलझाने के लिए इकट्ठे हुए वह संसार के इतिहास मे एक अनोखी घटना है। हमारे राष्ट्र की सीमाओं से कुछ ही दूरी पर संसार की महाशक्तियों मे परस्परिक समराज्य लिप्सा के लिए जो घमासान लड़ाई हो रही है………

Antarjawarla PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : bandhuon. aaj jis parasthiti me ham log yahaan apanee raashtreey samasyaon ko sulajhaane ke lie ikatthe hue vah sansaar ke itihaas me ek anokhee ghatana hai. hamaare raashtr kee seemaon se kuchh hee dooree par sansaar kee mahaashaktiyon me parasparik samaraajy lipsa ke lie jo ghamaasaan ladaee ho rahee hai………….
Short Description of Antarjawarla PDF Book : The brothers Today, the situation where we gathered here to solve our national problems is a unique phenomenon in the history of the world. Just a distance from the boundaries of our nation, in the great powers of the world, which is being fought for mutual goodness Lipsa…………..
“जब हम किसी नई परियोजना पर विचार करते हैं तो हम बड़े गौर से उसका अध्ययन करते हैं – केवल सतह मात्र का नहीं, बल्कि उसके हर एक पहलू का।” वाल्ट डिज़्नी
“When we consider a new project, we really study it – not just the surface idea, but everything about ¡t.” Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment