आरती संग्रह : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Arati Sangrah : Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameआरती संग्रह / Arati Sangrah
Author
Category, , ,
Language
Pages 66
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

आरती संग्रह का संछिप्त विवरण : आरती को ‘आरट्रीक’ अथवा ‘आरार्तिक’ और ‘नीराजन’ भी कहते हैं। पूजा के अंत में आरती की जाती है। पूजन में अज्ञानतावश यदि कोई कमी रह जाए, तो आरती से उसकी पूर्ति होती है। स्कंदपुराण में भी बर्णन आया है। अर्थात मंत्रहीन और क्रियाहीन होने पर भी नीराजन (आरती) कर लेने से पूजन में पूर्णता आ जाती है। साधारणतः पाँच बत्तियों……..

Arati Sangrah PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Arati ko Aratreek athava Arartik aur neerajan bhee kahate hain. Pooja ke ant mein aaratee kee jatI hai. Poojan mein agyanatavash yadi koi kami rah jaye, to aaratee se usakee poorti hoti hai. Skandapuran mein bhee varnan aaya hai. Arthat mantraheen aur kriyaheen hone par bhee neerajan (Aratee) kar lene se Poojan mein poornata aa jati hai. Sadharanatah panch battiyon…………
Short Description of Arati Sangrah PDF Book : Aarti is also called ‘rrtrak’ or ‘aartic’ and ‘neerajan’. Arti is done at the end of the pooja. If there is any lack of ignorance in the worship, then it is filled with an aarti. There is also a description in Skand Purana. It means that after doing neerajan (aarti) even when it is mantra and non-functional, fulfillment comes in worship. Usually five wallets………..
“यदि आपने हवाई किलों का निर्माण किया है तो आपका कार्य बेकार नहीं जाना चाहिए, हवाई किले हवा में ही बनाए जाते हैं। अब, उनके नीचे नींव रखने का कार्य करें।” ‐ हैनरी डेविड थोरेयू
“If you have built castles in the air, your work need not be lost; that is where they should be. Now put the foundations under them.” ‐ Henry David Thoreau

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment