ऐज अ मेन थिंकथ : जेम्स एलेन द्वारा हिंदी ऑडियो बुक | As a Man Thinketh : by James Allen Hindi Audiobook

ऐज अ मेन थिंकथ : जेम्स एलेन द्वारा हिंदी ऑडियो बुक | As a Man Thinketh : by James Allen Hindi Audiobook
पुस्तक का विवरण / Book Details
AudioBook Name ऐज अ मेन थिंकथ / As a Man Thinketh
Author
Category,
Language
Duration 1:01 Hrs
Source Youtube

As a Man Thinketh Hindi Audiobook का संक्षिप्त विवरण : यह छोटी सी पुस्तक बरसों के चिंतन-मनन और अनुभव का परिणाम है। मैंने इसमें वही सिद्धांत बताए हैं, जिन्हें मैंने अपने अनुभव में सच पाया है। इस पुस्तक का विषय सामान्य से हटकर है और इसके बारे में अब तक ज़्यादा कुछ नहीं लिखा गया है। इसका विषय है: विचार की शक्ति। जी हाँ, इस पुस्तक में यह बताया गया है कि आपके विचारों में शक्ति होती है और आप जितना सोचते हैं, उससे ज़्यादा शक्ति होती है। मेरा आपसे एक आग्रह है कि इस पुस्तक को विस्तृत मार्गदर्शिका या संदर्भ-ग्रंथ न मानें। इसके बजाय यह मानें कि ये मेरे सुझाव हैं, ये मेरे बताए गए विचार हैं। फिर आप अपने जीवन के अनुभवों से इस पुस्तक में बताए गए विचारों की सच्चाई की पुष्टि करें। इस पूरी पुस्तक का मकसद सिर्फ़ इतना है कि लोग यह सच्चाई जान लें “इंसान अपनी तकदीर ख़ुद बनाता है।’ देखिए, जैसा मैं पहले ही बता चुका हूँ, हमारे विचारों में बहुत शक्ति होती है। इनमें इतनी शक्ति होती है कि हम जिन प्रबल विचारों को लंबे समय तक अपने दिमाग में रखते हैं, वे अंततः साकार हो जाते हैं और उन्हीं से हमारी तक़दीर बनती है – अगर विचार अच्छे हैं, तो तक़दीर भी अच्छी होगी, और अगर विचार बुरे हैं, तो तक़दीर भी बुरी होगी। इस अटल सत्य को हमेशा-हमेशा के लिए पहचान लें कि जैसे आपके विचार होंगे, वैसी ही आपकी तक़दीर होगी, वैसा ही आपका जीवन होगा। माना जाता है कि इंसान के दिमाग में हर दिन लगभग 60,000 विचार आते हैं। और यही विचार मिलकर हमारी तक़दीर बनाते हैं। बस एक चीज़ का ध्यान रखें, हमारी तक़दीर में सबसे ज़्यादा योगदान उस विचार का होता है, जो हमारे दिमाग में मौजूद सबसे प्रबल और स्थायी विचार होता है। अपने दिमाग्र की शक्ति को कम न आँकें। यह इतना ज़्यादा शक्तिशाली है कि इसकी बदौलत मनुष्य ने इतने सारे वैज्ञानिक आविष्कार कर लिए हैं, जो कल्पनातीत लगते हैं। इंसान का दिमाग बहुत चतुर बुनकर होता है। यह चरित्र की भीतरी पोशाक भी बुनता है और परिस्थिति की बाहरी पोशाक भी। अब तक यह अज्ञान के धागे से कष्ट की पोशाक बुन रहा था। आइए, अब हम ज्ञान के धागे से इससे ख़ुशी की पोशाक बुनवाते हैं! विचारों में शक्ति होती है और इस शक्ति का इस्तेमाल अब आप अपने लाभ के लिए कर सकते हैं। इस पुस्तक में बताया गया है कि आप यह काम कैसे कर सकती हैं।

जैसे विचार, वैसा चरित्र
“जैसा इंसान अपने दिमाग में सोचता है, वैसा ही वह होता है।’ यह बात मनुष्य के समूचे अस्तित्व पर लागू होती है। यह उसकी जिंदगी की हर स्थिति और हर परिस्थिति पर लागू होती है। इंसान वाकई वैसा ही होता है, जैसा वह सोचता है। उसका चरित्र उसके सभी विचारों का महायोग होता है। उसका जीवन उसके सभी विचारों का महायोग होता है। इसलिए अगर आप अपने जीवन को बदलना चाहते हैं, तो सबसे पहले तो आपको अपने विचारों को बदलना होगा। जब तक आप अपने विचारों को नहीं बदलेंगे, तब तक आपका जीवन नहीं बदल सकता। इसे ज़्यादा अच्छी तरह समझाने के लिए हम खेती की उपमा लेते हैं। हम जानते हैं कि बीज से पौधा उगता है और बिना बीज के कोई पौधा पैदा नहीं हो सकता। इसी तरह विचार वह मानसिक बीज है, जिसके बिना सक्रियता का पौधा नहीं उग सकता और कर्म का फूल नहीं लग सकता और सुख या दुख का फल नहीं मिल सकता। यह हमेशा सच होता है, चाहे हम सोच-समझकर काम करें या बगैर सोचे-समझे तुरंत प्रतिक्रिया करें।
कर्म विचार का फूल है। देखिए, जब तक बीज नहीं होगा, तब तक फूल नहीं उग सकता, इसलिए विचार पहले आता है, काम उसके बाद होता है। सरल भाषा में समझें, तो आपके मन में कोई विचार आता है और फिर आप उस विचार के अनुरूप काम करते हैं। यानी विचार बीज है और काम उस बीज से उत्पन्न हुआ फूल है। और कर्म के इस फूल से जो फल उत्पन्न होते हैं, वे हैं सुख और दुख। इस तरह हम देख सकते हैं कि मनुष्य अपने दिमाग में जिन विचारों के बीज बोता है, वह उन्हीं के अनुरूप मीठी या कड़वी फ़सल काटता है। फ़सल कैसी होगी, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कैसे बीज बोए थे। अगर आपने करेले के बीज बोए थे, तो आप आम के फलों की उम्मीद कैसे कर सकते हैं? इस सिद्धांत को अपने जीवन में लागू करके देखें और अगर आप आम के फल खाना चाहते हैं, तो आम के बीज ही बोएँ। “हमारे मन के विचार ने हमें बनाया है। हम जो हैं, उसे विचार ने बनाया और ढाला है। यदि किसी इंसान के मन में बुरे विचार होते हैं, तो कष्ट उसके जीवन में उसी तरह खिंचा चला आता है, जिस तरह बैल के पीछे गाड़ी खिंची चली आती है. यदि किसी इंसान के विचार पवित्र और निर्मल होते हैं, तो ख़ुशी उसके पास उसी तरह रहती है, जिस तरह उसकी छाया रहती है – हमेशा।’ यदि किसी इंसान के विचार पवित्र और निर्मल होते हैं, तो ख़ुशी उसके पास उसी तरह रहती है, जिस तरह उसकी छाया रहती है – हमेशा।’ विकास मनुष्य का स्वभाव है। वह कोई स्थिर जीव नहीं है। और मनुष्य का विकास नैसगिक नियम के अनुरूप होता है। कारण और परिणाम का नियम इस संसार का सबसे महत्वपूर्ण नियम है। यह अटल और अटूट नियम है। कारण और परिणाम का नियम कहता है कि अगर आप किसी बहुमंजिली इमारत से छलाँग लगाते हैं, तो आप ज़मीन पर गिर जाएँगे। छलाँग लगाना कारण था, गिरना परिणाम| कारण और परिणाम का नियम केवल भौतिकी या भौतिक वस्तुओं के संसार में ही लागू नहीं होता। यह विचारों के संसार में भी लागू होता है। जिन लोगों का चरित्र उत्तम और महान रहा है, वह संयोग या क़िस्मत से नहीं रहा है। यह तो इसलिए महान रहा है, क्योंकि उन्होंने सही विचार सोचने की लगातार कोशिश की और नेक विचारों को लंबे समय तक अपने मस्तिष्क में रखा। इसी तरह जिन लोगों का चरित्र घटिया और पाशविक होता है, वह भी संयोग या क़िस्मत से नहीं होता है। यह तो घटिया और पाशविक विचार लंबे समय तक लगातार सोचने का परिणाम होता है। इंसान ही ख़ुद को बनाता है; इंसान ही ख़ुद को मिटाता है। विचारों के कारखाने में वह ऐसे हथियार बनाता है, जो उसे नष्ट कर देते हैं। दसरी ओर, वह ऐसे औजार भी बनाता है, जो उसके लिए ख़ुशी, शक्ति और शांति के दैवी महल बना सकते हैं। सही विचार चुनने और उन पर सही तरीक़े से काम करने पर मनुष्य उसी देवी पूर्णता की ओर बढ़ता है, जिस तक पहुँचने के लिए उसे इस संसार में भेजा गया था। ग़लत विचार चुनने और उनपर गलत अमल करने से मनुष्य पशु के स्तर तक गिर जाता है। इन दोनों अतियों के बीच चरित्र के कई भेद भी होते हैं। लेकिन एक बात पूरी तरह स्पष्ट है: हर स्थिति और परिस्थिति में इंसान ही अपनी तकदीर बनाता है और अपने जीवन को अपने विचारों के सांचे में ढालता है। आधुनिक युग में बहुत सी मनोवैज्ञानिक सच्चाइयाँ सामने आई हैं। लेकिन उनमें से कोई भी इतनी ज़्यादा प्रभावी और लाभकारी नहीं है या इतना ज़्यादा आत्मविश्वास बढ़ाने वाली नहीं है, जितनी यह सच्चाई है – कि इंसान अपने विचारों का स्वामी होता है, वह अपने चरित्र का साँचा ख़ुद गढ़ता है और इस तरह वह अपनी परिस्थितियों, परिवेश तथा तकदीर का निर्माता होता है। आपके जैसे विचार होंगे, वैसा ही आपका चरित्र होगा और जैसा आपका चरित्र होगा, वैसी ही आपकी परिस्थितियाँ होंगी। यानी अगर आप अपनी परिस्थितियों से संतुष्ट हैं, तो आपको अपने विचारों को बदलने की कोई ज़रूरत नहीं है। दूसरी तरफ़, अगर आप अपनी परिस्थितियों से संतुष्ट नहीं हैं, तो इसका मतलब है कि आपको अपने विचारों को बदलने की ज़रूरत है, क्योंकि उन्हें बदलने के बाद ही आपको अपनी मनचाही परिस्थितियाँ मिल सकती हैं। इंसान में शक्ति, बुद्धि और प्रेम का वास है। वह अपने विचारों का स्वामी है। इसलिए हर स्थिति की कुंजी उसी के हाथ में है। उसके भीतर वह कायाकल्प करने वाली शक्ति है, जिसके जरिये वह जैसा चाहे वैसा बन सकता है। इंसान ख़ुद को अपने मनचाहे साँँचे में ढाल सकता है। और यह काम वह एक पल में कर सकता है – जब वह अपने विचारों या मानसिकता को बदलने का निर्णय ले। इंसान हमेशा स्वामी होता है – सबसे कमजोर और हीन अवस्था में भी। लेकिन कमजोर और हीन अवस्था में वह मूर्ख स्वामी होता है, जो अपने ‘घर’ का खराब संचालन करता है और अपने ही हाथों घर में आग लगा लेता है। दूसरी तरफ़, जब इंसान अपनी स्थिति के बारें में सोच-विचार करता है और अस्तित्व के नियम यानी विचार के नियम पर मेहनत से चलता है, तो वह समझदार स्वामी होता है। यह समझदार स्वामी अपनी बुद्धि का इस्तेमाल करके अपनी ऊर्जा को दिशा देता है और अपने विचारों को लाभकारी क्षेत्रों में लगाता है, जिससे उसे सुखद परिणाम मिलते हैं। इस स्थिति में मनुष्य चेतन स्वामी बन जाता है। लेकिन मनुष्य ऐसा तभी बन सकता है, जब वह अपने भीतर विचार के नियम खोज लें। यह खोज पूरी तरह से अमल, आत्मसमर्पण और अनुभव पर निर्भर करती है |

“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।” ‐ क्रिस्टोफर रीव
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” ‐ Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment