बात जवाहर लाल की : देस राज गोयल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bat Jawahar Lal Ki : by Desraj Goyal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बात जवाहर लाल की : देस राज गोयल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bat Jawahar Lal Ki : by Desraj Goyal Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बात जवाहर लाल की / Bat Jawahar Lal Ki
Author
Category, ,
Language
Pages 62
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जवाहर लाल की सोच में एक खास बात थी। उनको आम लोगों पर बहुत भरोसा था | यह बात उन्होंने गांधी जी से सीखी थी । वह गांधी जी को अपना गुरु मानते थे। गांधी जी ने आजादी की लड़ाई बिना तलवार के लड़ी । गांधी जी का मार्ग अहिंसा का था। अहिंसा के मार्ग पर दूसरों के दिल को जीतना पड़ता है। डरा कर दिल नहीं जीता जा सकता……

Pustak Ka Vivaran : Jawahar Lal ki Soch mein ek khas bat thi. Unko aam logon par bahut bharosa tha . Yah bat unhonne Gandhi ji se seekhi thi. Vah Gandhi ji ko apna Guru Manate the. Gandhi ji ne Aajadi ki ladai bina talvar ke ladi. Gandhi ji ka marg Ahinsa ka tha. Ahinsa ke marg par doosaron ke dil ko jeetana padata hai. Dara kar dil nahin jeeta ja sakta……..

Description about eBook : There was a special thing in the thinking of Jawaharlal. He had great faith in the common people. He learned this from Gandhiji. He considered Gandhiji as his guru. Gandhiji fought the freedom struggle without a sword. Gandhi’s path was that of non-violence. On the path of non-violence one has to win the hearts of others. Heart can’t be won by being scared…….

“कोई शत्रु नहीं, बल्कि मनुष्य का मन ही है जो उसे पथभ्रष्ट करता है।” बुद्ध
“It is a man’s own mind, not his enemy or foe, that lures him to evil ways.” Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment