पहली किरण दिव्य देन : जवाहर लाल जी | Pheli Kiran Divya Den : by Jawahar Lal Ji Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पहली किरण दिव्य देन / Pheli Kiran Divya Den
Author
Category,
Language
Pages 399
Quality Good
Size 11.4 MB
Download Status Available

पहली किरण दिव्य देन पुस्तक का कुछ अंश : प्रथम और दूसरे कोटि के मनुष्य बहिद्वृत्तिवाले हैं। इन वबहिरात्मार्मों का पुरुषार्थ ‘अर्थ और काम की प्राप्ति के लिए ही होता है । वे वहिजंगत्‌ के सुख-साधन जुटे में ओोर बाह्य सुखोपभोग में लिप्त और आसक्त रहते हैं लेकिन तीसरी और चौथी कोटि के मनुष्य का…….

Pheli Kiran Divya Den PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Pratham aur doosare koti ke manushy bahidvrttivale hain. in vabahiratmarmon ka purusharth arth aur kam kee prapti ke liye hee hota hai. Ve vahijangat‌ ke sukh-sadhan jute mein oor bahy sukhopabhog mein lipt aur aasakt rahate hain lekin teesaree aur chauthee koti ke manushy ka…….
Short Passage of Pheli Kiran Divya Den Hindi PDF Book : Human beings of the first and second category are extraverted. The effort of these external souls is only for the attainment of meaning and work. They remain attached and engrossed in the pleasures of Vahijangat and in the enjoyment of external pleasures, but the third and fourth class of human beings…….
“सफलता हमेशा के लिए नहीं होती, असफलता कभी घातक नहीं होती: यह तो लगे रहने की प्रवृत्ति है जो मायने रखती है।” विंस्टन चर्चिल
“Success is not final, failure is not fatal: it is the courage to continue that counts.” Winston Churchill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment