भगवान रो रहा है : सुशील गुप्ता द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Bhagwan Ro Raha Hai : by Sushil Gupta Hindi PDF Book – Upanyas (Novel)

Book Nameभगवान रो रहा है / Bhagwan Ro Raha Hai
Author
Category, ,
Language
Pages 170
Quality Good
Size 4.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उस दिन से ही उन माँ-बेटी पर इल्जाम और लांछन के चाबुक पड़ने लगे | जो लोग ‘बेगम साहिबा’ कहकर उसका श्रद्धा-सम्मान करते थे, अब वे लोग ही उन पर अबहेलना और अपमान के तीर बरसाने लगे | पहले उसके सास-श्वसुर-देवर उससे इज्जत से पेश आते थे, इस हादसे के बाद वे लोग………

Pustak Ka Vivaran : Us Din se hi un man-beti par Iljam aur Lanchhan ke chabuk padane lage. Jo log Begum Sahiba kahakar usaka shraddha-samman karate the, ab ve log hi un par avahelana aur apaman ke teer barasane lage. Pahale usake sas-shvasur-devar usase ijjat se pesh aate the, is hadase ke bad ve log.”………….

Description about eBook : From that day on, the mother and daughter began to lash against the accused and lashan. People who respected him by saying ‘Begum Sahib’, now those people ignored him and began to shoot arrows of insults. Earlier, her mother-in-law was treated with dignity, after the accident, those people…………..

“आईने में झांकिए और अपने आप से पूछिये कि बाकी के जीवन में आप क्या करना चाहते हैं। और फिर वही करें।” ‐ गेरी वैनरचक
“Look yourself in the mirror and ask yourself “What do I want to do for the rest of my life?” Do that.” ‐ Gary Vaynerchuk

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment