भारत का पुनर्बोध : धर्मपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharat Ka Punarbodh : by Dharmapal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameभारत का पुनर्बोध / Bharat Ka Punarbodh
Author
Category, , ,
Language
Pages 310
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिवरण : लम्बे अरसे से मेरा मन गाँव में जाकर रहने और काम करने का था | मेरे एक पारिवारिक मित्र गोरखपुर जिले के एक हजार एकड़ जितने विशाल फार्म के मैनेजर थे | उन्होंने मुझे फार्म पर आकर रहने के लिए निमंत्रण दिया | यह फार्म सुन्दर तो था परन्तु यह तो बहाँ रहने वालो से कसकर परिश्रम कराने की जगह……..

Pustak Ka Vivaran : Lambe arase se mera man Ganv mein Jakar rahane aur kam karane ka tha. Mere ek parivarik mitra Gorakhapur jile ke ek hajar ekad jitane vishal Farm ke mainejar the. Unhonne mujhe Farm par aakar rahane ke lie nimantran diya. Yah Farm sundar to tha parantu yah to vahan rahane valo se kasakar parishram karane kee jagah thee………….

Description about eBook : For a long time, my mind was going to go and work in the village. One of my family friends was a thousand acres of huge farmer in Gorakhpur district. He invited me to come and join the farm. This form was beautiful but it was the place to work harder from the people living there……………

“कठिनाईयों का अर्थ आगे बढ़ना है, न कि हतोत्साहित होना। मानवीय भावना का अर्थ द्वन्द्व से और अधिक मजबूत होना होता है।” ‐ विलियम एल्लेरी चैन्निंग
“Difficulties are meant to rouse, not discourage. The human spirit is to grow strong by conflict.” ‐ William Ellery Channing

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment