भारतीय चिंतन : रांगेय राघव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Bharatiy Chintan : by Rangeya Raghav Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

भारतीय चिंतन : रांगेय राघव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Bharatiy Chintan : by Rangeya Raghav Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय चिंतन / Bharatiy Chintan
Author
Category, ,
Language
Pages 166
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

भारतीय चिंतन का संछिप्त विवरण : तब संसार के दुःख से मुक्ति पा जाने वाला ही जो मनुष्यता के तत्वावधान में अपने गुणों का वर्धन कर लेता है , हमारे समाज में पूज्य रहा है। उसका कोई मत हो, वह कुछ भी क्यों न कहता रहे, विरोधों के बावजूद यदि उसका व्यक्तित्व महान है, यदि कुछ लोग उसके पीछे चलने वाले है…….

Bharatiy Chintan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Tab Sansar ke duhkh se mukti pa jane vala hi jo manushyata ke tatvavadhan mein apane gunon ka vardhan kar leta hai , hamare samaj mein poojy raha hai. Uska koi mat ho, vah kuchh bhi kyon na kahata rahe, virodhon ke bavjood yadi usaka vyaktitv mahan hai, yadi kuchh log uske peechhe chalane vale hai……..
Short Description of Bharatiy Chintan PDF Book : Then the person who can get rid of the misery of the world, who enhances his qualities under the auspices of humanity, has been revered in our society. He has no opinion, why should he keep saying anything, despite the protests if his personality is great, if some people are going to follow him …….
“अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है। जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं।” रोजर विलियम्स
“The greatest crime in the world is not developing your potential. When you do your best, you are helping others.” Roger Williams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment