भारतीय संगीत की कहानी : भगवत शरण उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Bharatiya Sangeet Ki Kahani : by Bhagwat Sharan Upadhyay Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameभारतीय संगीत की कहानी / Bharatiya Sangeet Ki Kahani
Author
Category, , , ,
Language
Pages 70
Quality Good
Size 3.18 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : धीरे-धीरे खयाल ने धुपद की जगह लेली | आजकल धुपद गाने वाले नहीं के बराबर हैं | आजकल के ध्रुपद में संचारी और अभोग का प्रे अभाव ही होता है | धुपद की चार मानी हुई शैलियाँ, कन्धार, नोहार,दगुर और गोबहरे है | पर ये अब बहुत ही काम गयी जाती है | धुपद गाने के लिए भारी मर्दीनी आवाज चाहिये…………

Pustak Ka Vivaran : Dheere-Dheere khayal ne Dhrupad ki Jagah leli. Aajakal dhrupad Gane vale Nahin ke barabar hain. Aajakal ke Dhrupad mein Sanchari Aur Abhog ka pre Abhav hi  hota hai. Dhrupad ki char mani huyi shailiyan, kandhar, Nohar,dagur aur gobahare hai. Par ye ab bahut hi kam gayi jati hai. Dhrupad gane ke liye bhari Mardani Avaj chahiye………….

Description about eBook : Slowly Khayal took the place of Dhrupad. Nowadays, singing songs like Dhrupad are not equal. In today’s Dhrupad, there is lack of communication and communicative indulgence. Dhrupad has four recognized styles, Kandhar, Nahar, Dagur and Gobhar. But now this work is done very much. Dhrupad song should be heavy mardani voice…………..

“मिलझुल कर काम करने के साथ खास बात यह है कि आपके पक्ष में हमेशा और भी लोग होते हैं।” – मार्गरेट कार्टी
“The nice thing about teamwork is that you always have others on your side.” – Margaret Carty

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment