भारतीय संयोजन में समाजवाद : श्री मन्नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharatiya Sanyojan Mein Samajvad : by Shri Mannarayan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

भारतीय संयोजन में समाजवाद : श्री मन्नारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bharatiya Sanyojan Mein Samajvad : by Shri Mannarayan Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय संयोजन में समाजवाद / Bharatiya Sanyojan Mein Samajvad
Author
Category, , , ,
Language
Pages 9 MB
Quality Good
Size 198
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : समाजवाद एक अस्पष्ट शब्द बन गया हैं और उसके तरह-तरह के मतलब निकाले जाते हैं | आज की दुनिया में जब रफ्तार तेज है. और तकनीकी ज्ञान की भारी प्रगति हुई है, यह जाहिर है कि खुद समाजवाद की कल्पना में फेर-बदल हुआ है, फिर भी उसके बुनियादी सिद्धांत तो ‘कायम हैं। भारत में हमारे लिए यह जरूरी है कि हम मौजुदा तकनीकी…….

Pustak Ka Vivaran : Samajvad ek aspasht shabd ban gaya hain aur usake tarah-tarah ke matalab nikale jate hain. Aaj ki duniya mein jab raphtar tej hai. aur takaneeki gyan ki bhari pragati huyi hai, yah jaahir hai ki khud samajvad kee kalpana mein pher-badal huya hai, phir bhee usake buniyadi siddhant to kayam hain. Bharat mein hamare liye yah jaruri hai ki ham maujuda takaneeki…………

Description about eBook : Socialism has become a vague term and various meanings are derived from it. In today’s world, when the pace is fast. And there has been a huge progress in technical knowledge, it is evident that the imagination of socialism itself has changed, yet its basic principles are still intact. It is important for us in India that we have existing technical …………

“साहस और दृढ़ निश्चय जादुई तावीज़ हैं जिनके आगे कठिनाईयां दूर हो जाती हैं और बाधाएं उड़न-छू हो जाती है।” ‐ जॉन क्विंसी एडम्स
“Courage and perseverance have a magical talisman, before which difficulties disappear and obstacles vanish into air.” ‐ John Quincy Adams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment