ब्रह्मचर्य व्रत : शंकर प्रसाद दीक्षित द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brahmcharya Vrat : by Shankar Prasad Dixit Hindi PDF Book

ब्रह्मचर्य व्रत : शंकर प्रसाद दीक्षित द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Brahmcharya Vrat : by Shankar Prasad Dixit Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ब्रह्मचर्य व्रत / Brahmcharya Vrat
Author
Category,
Pages 130
Quality Good
Size 3.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ब्रह्मचर्य शब्द के इन अर्थों पर दृष्टिपात करने से हम, इस निर्णय पर पहुँचते है की जिस आचरण द्वारा आत्मचिंतन हो आत्मा अपने आप को पहचान सके और अपने लिए वास्तविक सुख को प्राप्त कर सके, उस आचरण का नाम ब्रह्मचर्य है। इस अर्थ मे ब्रह्मचर्य शब्द के ऊपर कहे हुए सर्व अर्थ भी अजाते……

Pustak Ka Vivaran : brahmachary shabd ke in arthon par drshtipaat karane se ham, is nirnay par pahunchate hai kee jis aacharan dvaara aatmachintan ho aatma apane aap ko pahachaan sake aur apane lie vaastavik sukh ko praapt kar sake, us aacharan ka naam brahmachary hai. is arth me brahmachary shabd ke oopar kahe hue sarv arth bhee ajaate hain…………..

Description about eBook : By looking at these meanings of the word Brahmacharya, we reach the judgment that the conduct which is self-conscious by the soul can recognize oneself and achieve real pleasure for ourselves, the name of that conduct is Brahmacharya. In this sense, all the meanings mentioned above the word of celibacy are also known……………

“अगर आप अपने बच्चों के शारीरिक श्रम की हिदायत देते हैं, तो बेहतर है कि आप भी वैसा ही करें। अपने उपदेशों पर स्वयं अमल करें।” ‐ ब्रूस जेनर
“If you’re asking your kids to exercise, then you better do it, too. Practice what you preach.” ‐ Bruce Jenner

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment