ब्रज-भाषा-काव्य में राधा : डॉ. उषा पुरी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Braj-Bhasha-kavya Mein Radha : by Dr. Usha Puri Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameब्रज-भाषा-काव्य में राधा / Braj-Bhasha-kavya Mein Radha
Author,
Category, , , ,
Language
Pages 144
Quality Good
Size 14.2 MB
Download Status Available

ब्रज-भाषा-काव्य में राधा पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : राधाकृष्ण की युगलपासना पर बल देते हुए श्री पीताम्बर देव ने इष्ट युगल को
परस्परालम्बित माना है। प्रेम के ये दोनों रूप भक्तों को ‘रस’ प्रदान करने के बिना राधा का व्यक्तित्व अधूरा
है। विहारिणी राधा को, भोग्या होने के कारण, कवि ने, बिहारी कृष्ण से अधिक महत्वपूर्ण.

Braj-Bhasha-kavya Mein Radha  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Radhakrshn kee Yugalapasana par bal dete huye shree peetambar dev ne isht yugal ko parasparalambit mana hai. Prem ke ye donon roop bhakton ko ras pradan karane ke bina Radha ka vyaktitv adhura hai. viharini Radha ko, Bhogya hone ke karan, kavi ne, bihari krshn se adhik mahatvapurn……..

Short Description of  Braj-Bhasha-kavya Mein Radha Hindi PDF Book : Emphasizing Radhakrishna’s adulthood, Shri Pitambar Dev has considered the favored couple to be interwoven. Radha’s personality is incomplete without giving ‘juice’ to the devotees as both of these forms of love. Viharini Radha, due to being indebted, the poet, more important than Bihari Krishna………

“काम वह वस्तु नहीं है जिससे किसी व्यक्ति की पराजय होती है, वास्तव में वह वस्तु चिंता है।” हेनरी वार्ड बीचर
“It is not work that kills men; it is worry.” Henry Ward Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment